फाइमोसिस होने के कारण, लक्षण और इलाज

फाइमोसिस (phimosis) एक ऐसी स्थिति है जिसमें फोरस्किन को लिंग के मुठ से पीछे नहीं खींचा जा सकता।

आमतौर पर 3 साल से छोटे बच्चों की फोरस्किन काफी टाइट होती है और मुठ के पीछे नहीं जाती। लेकिन उम्र बढ़ने के साथ-साथ फोरस्किन ढीली होती जाती है, और यौवनावस्था आते-आते लिंग के पूरे पीछे तक जाने लगती है।

फाइमोसिस की समस्या प्राकृतिक रूप से या फोरस्किन में स्कार टिश्यू बनने के कारण हो सकती है।

युवा लड़कों को फाइमोसिस के इलाज की आवश्यकता नहीं होती है, जब तक कि इसके कारण उन्हें पेशाब करना मुश्किल न हो या कोई अन्य लक्षण पैदा न हो।

लेकिन लड़के के बड़े होने और यौन रूप से सक्रिय होने पर यह समस्या उनकी सेक्स उत्तेजना और संतुष्टि पर बुरा असर डाल सकती है।

लक्षण

फाइमोसिस का मुख्य लक्षण होता है फोरस्किन को लिंग के मुठ के पीछे न खींच पाना।

आमतौर पर 3 साल की उम्र के बाद फोरस्किन ढीली होना शुरू हो जाती है। हालाँकि कुछ लड़कों में यह प्रक्रिया देर से शुरू हो सकती है, लेकिन 17 साल की उम्र तक, एक लड़के को अपनी फोरस्किन को आसानी से पूरा पीछे करने में सक्षम हो जाना चाहिए।

फाइमोसिस का एक अन्य सामान्य लक्षण है – पेशाब करते समय फोरस्किन का सूज जाना।

कारण

फाइमोसिस प्राकृतिक रूप से किसी भी लड़के में हो सकता है। यह स्पष्ट नहीं है कि यह कुछ लड़कों में क्यों होता है और अन्य में क्यों नहीं।

यह समस्या तब भी उत्त्पन हो सकती है जब बचपन में फोरस्किन के पूरी तरह से विकसित होने से पहले ही जबरन उसे पीछे खींचना। इससे स्किन को नुकसान पहुँच सकता है और स्कार टिश्यू पैदा हो सकते हैं, यह स्कार टिश्यू फोरस्किन को लिंग के मुठ में चिपकाने लगते हैं।

लिंग के सिरे या फोरस्किन में इन्फ्लेमेशन या संक्रमण होने पर भी पुरुषों को फाइमोसिस हो सकता है, उदाहरण के तौर पर बैलेनाइटिस, जो लिंग के सिरे में होने वाला इन्फ्लेमेशन होता है। कभी-कभी यह लिंग की स्वस्छता का ध्यान न रखने के कारण भी होता है।

ऐसा ही एक संक्रमण जिसके कारण बैलेनाइटिस हो सकता है, उसे लाइकेन स्क्लेरोसस कहा जाता है। यह एक स्किन की समस्या होती है जो असामान्य इम्यून सिस्टम प्रतिक्रिया या हार्मोन असंतुलन से ट्रिगर हो सकती है।

इसके लक्षणों में फोरस्किन पर सफेद धब्बे या चकत्ते शामिल हैं। इसके अलावा स्किन में खुजली हो सकती है और यह आसानी से फट सकती है।

मदद ढूंढना

फाइमोसिस के कुछ मामलों का इलाज करना जरूरी नहीं होता, खासकर युवा लड़कों में।

यदि आपको पेशाब या सेक्स करने में कोई परेशानी नहीं आती है, तो आप इस समस्या के साथ रह सकते हैं, और यदि परेशानी आ रही है तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

डॉक्टर द्वारा आपके लिंग के मुठ या फोरस्किन में मौजूद किसी संक्रमण का मूल्यांकन भी किया जाना चाहिए। संक्रमण के लक्षण निम्न हो सकते हैं:

  • लिंग के मुठ या फोरस्किन के रंग में परिवर्तन
  • धब्बे या दानों की उपस्थिति
  • दर्द
  • खुजली
  • सूजन

फाइमोसिस का इलाज

आमतौर पर फाइमोसिस या कोई अन्य अंतर्निहित स्थिति जैसे कि बैलेनाइटिस का पता लगाने के लिए डॉक्टर द्वारा आपका शारीरिक परिक्षण और लक्षणों की समीक्षा की जाती है।

बैलेनाइटिस या किसी अन्य प्रकार के संक्रमण के इलाज के लिए सबसे पहले फोरस्किन का लैब टेस्ट किया जाता है। एक बैक्टीरियल संक्रमण होने पर आपको एंटीबायोटिक दवाएं दी जाएँगी, जबकि एक फंगल संक्रमण के लिए एंटिफंगल मलहम की आवश्यकता होगी।

यदि आपकी फोरस्किन में कोई संक्रमण या अन्य बीमारी नहीं पाई जाती, और ऐसा प्रतीत होता है कि टाइट फोरस्किन केवल एक स्वाभाविक रूप से होने वाला विकास है, तो इसे ढीला करने के कई अन्य उपचार विकल्प उपलब्ध हैं।

स्थिति की गंभीरता के आधार पर, समस्या का इलाज करने के लिए रोज फोरस्किन को हल्के से मुठ के पीछे करना पर्याप्त हो सकता है।

इस प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए और फोरस्किन को नरम करने के लिए टोपिकल स्टेरॉयड क्रीम का उपयोग किया जा सकता है।

दिन में दो बार लिंग के मुठ और फोरस्किन के आसपास के क्षेत्र में क्रीम की मालिश की जाती है।

अधिक गंभीर मामलों में, सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

यदि आपको बार-बार बैलेनाइटिस, यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन या अन्य संक्रमणों का अनुभव होता है, तो भी सर्जरी आवश्यक हो सकती है।

फाइमोसिस बनाम पैराफाइमोसिस

पैराफाइमोसिस उस स्थिति को कहा जाता है जब फोरस्किन को लिंग के मुठ के पीछे करने के बाद उसे दोवारा अपनी सामान्य स्थिति में नहीं ले जाया जा सकता।

पैराफाइमोसिस का सबसे बड़ा नुकसान होता है लिंग के मुठ में रक्त संचार का सुख जाना। इसलिए यदि पैराफाइमोसिस कुछ घंटों तक रहता है और लिंग नीला पड़ने लगता है या दर्द महसूस होने लगता है, तो आपको तुरंत इमरजेंसी मेडिकल सहायता लेना चाहिए।

पैराफाइमोसिस के उपचार विकल्प फाइमोसिस के सामान ही होते हैं।

लिंग के मुठ और फोरस्किन पर लुब्रीकेंट से मालिश करने से फोरस्किन को वापस अपनी सामान्य स्थिति में स्लाइड करने में अतिरिक्त मदद मिल सकती है।

लेकिन इस घरेलू उपचार को आजमाने से पहले, आपको डॉक्टर से इस बारे में चर्चा करनी चाहिए। क्योंकि आपके लिए कौन सा लुब्रीकेंट या क्रीम बेहतर रहेगी, यह आपका डॉक्टर आपकी जाँच करने के बाद ही बता सकता है।

खतना या आंशिक खतना सर्जरी के माध्यम से फोरस्किन को पीछे हटाने की चिंताओं को समाप्त किया जा सकता है। लेकिन डॉक्टर के साथ इस प्रक्रिया के जोखिमों और लाभों के बारे में पूरी चर्चा करें और पूरी तरह से आश्वत होने के बाद ही सर्जरी करवाएं।

हालाँकि बिना खतना किये पुरुषों के लिंग में यौन रोग और संक्रमण होने की सम्भावना ज्यादा होती है। इसलिए खतना सर्जरी करवाना लिंग के स्वास्थ्य के लिए एक अच्छा विकल्प होता है।

निष्कर्ष

ज्यादातर मामलों में फोरस्किन को ढीला करने और लिंग को किसी भी स्वच्छता संबंधी जटिलताओं से बचाने के लिए, रोज फोरस्किन को पीछे हटाकर मालिश करना पर्याप्त होता है।

हालाँकि कुछ मामलों में फाइमोसिस एक गंभीर और दर्दनाक स्थिति हो सकती है। लेकिन इसका इलाज संभव है और आमतौर पर फोरस्किन की सर्जरी के परिणाम काफी अच्छे होते हैं।

इसलिए यदि आपको फाइमोसिस के कोई लक्षण दिखाई देते हैं और आप इसे जल्दी ठीक करना चाहते हैं, तो तुरंत एक urologist से मिलें। इसकी सर्जरी में 30 मिनट से भी कम समय लगता है और डॉक्टर कुछ दवाएं लिखकर तुरंत आपकी छुट्टी कर देता है। 1 से 2 हफ़्तों में आपकी फोरस्किन का घाव पूरी तरह से भर जाता है।

प्रत्येक व्यक्ति की फोरस्किन एक अलग गति और प्रकारों से विकसित होती है। इसलिए किसी में भी फाइमोसिस, पैराफाइमोसिस या टाइट फ्रेनुलम का बनना पूरी तरह से प्राकृतिक हो सकता है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.