लिंग का टेढ़ापन (पेरोनी रोग) के लक्षण, कारण और उपचार

पेरोनी रोग, एक ऐसी स्थिति है जिसमें लिंग खड़ा होने पर असामान्य रूप से झुक जाता है या टेढ़ा हो जाता है।

यह व्यक्ति में इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने का एक दुर्लभ कारण है। इरेक्टाइल डिसफंक्शन में व्यक्ति को अपना लिंग खड़ा करने या लम्बे समय तक खड़ा बनाये रखने में कठिनाई होती है।

पेरोनी रोग लिंग की स्किन के नीचे विकसित होने वाले स्कार टिश्यू के कारण होता है।

अमेरिका की NIH संस्था के अनुसार 40 से 70 साल के पुरुषों में यह समस्या होने की संभावना 23% होती है।

पुरुष के लिंग का थोड़ा मुड़ना या एक तरफ थोड़ा झुका होना आम बात है, और यह प्राकृतिक रूप से लिंग का एक प्रकार हो सकता है।

हालांकि, अगर यह टेढ़ापन काफी ज्यादा है, या यदि इसके कारण लिंग में दर्द होता है, तो यह एक समस्या है।

पेरोनी रोग किसी पुरुष की यौन संबंध बनाने की क्षमता को भी कमजोर कर सकता है।

लिंग के टेढ़ापन के बारे में चिंता करने से आपको तनाव और चिंता हो सकती है, जिससे इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है।

हालाँकि, पेरोनी रोग से ग्रसित कई पुरुष एक सुखी सेक्स लाइफ जीते हैं।

लक्षण

पेरोनी रोग के लक्षण या तो समय के साथ धीरे-धीरे उभर सकते हैं या अचानक प्रकट हो सकते हैं।

प्राथमिक लक्षण लिंग में अत्यधिक टेढ़ापन होना है – स्कार टिश्यू बनने की जगह के आधार पर आपका लिंग दाएँ-बाएँ, ऊपर या नीचे की ओर टेढ़ा हो सकता है।

कभी-कभी, एक निश्चित बिंदु पर लिंग बहुत संकरा या संकीर्ण हो सकता है।

कुछ पुरुषों में, यह टेढ़ापन धीरे-धीरे अधिक स्पष्ट होता जाता है, जबकि कुछ में यह धीरे-धीरे ठीक होता जाता है या वैसा का वैसा रहता है।

अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • स्कार टिश्यू: स्कार टिश्यू डेड स्किन सेल्स का एक गुच्छा होते हैं, जो अक्सर चोट लगने के बाद उसके ऊपर बनते हैं। यह अकारण लिंग की स्किन की परत के नीचे भी बन सकते हैं। यह कठोर सेल्स की एक गांठ की तरह लगते हैं।
  • इरेक्टाइल डिसफंक्शन: पेरोनी रोग से ग्रसित पुरुषों को अपना लिंग खड़ा करने या खड़ा बनाए रखने में कठिनाई हो सकती है।
  • लिंग की लंबाई – पेरोनी रोग के परिणामस्वरूप अंततः लिंग लम्बाई में छोटा हो सकता है
  • दर्द – लिंग खड़ा होने और/या सेक्स के दौरान व्यक्ति को दर्द का अनुभव हो सकता है। हालांकि, अधिकतर मामलों में, यह दर्द धीरे-धीरे कुछ महीनों के बाद (बिना किसी उपचार के) चला जाता है।

कारण

पेरोनी रोग के कारणों को अभी तक पूरी तरह से समझा नहीं जा सका है।

ऐसा हो सकता है कि सेक्स, खेल, झटके या दुर्घटना के कारण आपके लिंग की छोटी-छोटी रक्त वाहिकाएं फट गई हों। इन वाहिकाओं की हीलिंग प्रक्रिया के दौरान उनमें सेल्स फंस गए हों और जिसके परिणामस्वरूप स्कार टिश्यू बनना शुरू हो गए हों।

लिंग में दोनों तरफ स्पंज जैसी दो नलिकाएं होती हैं, जिन्हें कॉर्पस कोवर्नोसम (corpus cavernosum) कहा जाता है। इन नालिकाओं में बहुत सारी छोटी-छोटी रक्त वाहिकाएँ मौजूद होती हैं।

जब कोई पुरुष यौन उत्तेजित होता है, तो यह वाहिकाएं रक्त से भर जाती हैं, जिसके परिणामस्वरूप लिंग खड़ा होता है।

कॉर्पस कैवर्नोसम एक लचीले ऊतक आवरण के अंदर होता है, जिसे ट्यूनिका अल्ब्यूजिना (tunica albuginea) कहा जाता है। लिंग खड़ा होने पर यह आवरण खिंच जाता है।

लिंग में चोट लगने पर इस लचीने आवरण के ऊतक क्षतिग्रस्त हो सकते हैं।

हालाँकि ठीक से हीलिंग होने पर कोई स्कार टिश्यू नहीं बनते। हालांकि, अगर पहले से ही आवरण में स्थायी स्कार टिश्यू मौजूद हैं, तो संभावना है कि व्यक्ति को पेरोनी रोग हो जाये।

क्योंकि आवरण का वह भाग जिसमें स्कार टिश्यू बन जाते हैं, अब वह ठीक से नहीं खिंच सकता और लिंग उसकी तरफ टेढ़ा होने लगता है।

हालाँकि आपको यह ध्यान देने जरूरी है कि अधिकतर पुरुष जिनको लिंग में चोट लगती है, उनमें पेरोनी रोग विकसित नहीं होता है।

इस रोग के होने की सम्भावना चोट की हीलिंग प्रक्रिया के दौरान निर्धारित होती है। निम्न कारक हैं जो हीलिंग प्रक्रिया को प्रभावित करते हैं और पेरोनी की संभावना को बड़ा देते हैं:

  • वंशानुगत: जिन पुरुषों के परिवार में लम्बे समय से पेरोनी रोग होता आ रहा है, तो उनमें भी इसके होने की सम्भावना ज्यादा होती है।
  • संयोजी ऊतक विकार: संयोजी ऊतक जिन्हें कनेक्टिव टिश्यू भी कहा जाता है, शरीर के अंगों का निर्माण और मरम्मत करने वाले बिल्डिंग ब्लॉक होते हैं। इनमें कोई विकार होने पर भी हीलिंग प्रक्रिया गड़बड़ हो सकती है।
  • आयु – वृद्ध पुरुषों में हीलिंग प्रक्रिया के दौरान स्कार टिश्यू बनने की संभावना ज्यादा होती है।

पेरोनी रोग के कुछ मामले बिना चोट के कारण भी होते हैं, जिनमें शोधकर्ताओं का मानना ​​है कि व्यक्ति को एक इम्यून सिस्टम की समस्या हो सकती है जो कुछ मामलों में इसका कारण बन सकती है।

उपचार

डॉक्टर आपसे लक्षणों के बारे में सवाल पूछेगा कि वे कितने समय से हैं, और वे समय के साथ कैसे विकसित हुए (अचानक या धीरे-धीरे)। आपका शारीरिक परीक्षण भी किया जाएगा।

यदि आपके लिंग का टेढ़ापन समय के साथ और नहीं बिगड़ रहा है, कोई दर्द नहीं है या दर्द बहुत कम है, और लक्षण सेक्स में हस्तक्षेप नहीं करते हैं, तो डॉक्टर शायद सावधान रहते हुए प्रतीक्षा करने की सलाह देगा।

सामान्य तौर पर, सर्जरी करने पर विचार करने से पहले व्यक्ति को कम से कम 6 महीनों के लिए बदलावों का निरीक्षण करने के लिए कहा जाता है।

अधिक गंभीर मामलों में, आपको कुछ दवा दी जा सकती हैं या सर्जरी करवाने की सलाह दी जा सकती है।

दवाएँ

क्लोस्ट्रीडियम हिस्टोलिटिकम (Clostridium hystolyticum): यह पेरोनी रोग के इलाज के लिए एकमात्र वैज्ञानिकों द्वारा सत्यापित दवा है। यह उन लोगों के लिए अच्छी होती है, जिनका लिंग खड़ा होने पर 30 डिग्री या उससे अधिक के कोण पर टेढ़ा हो जाता है।

लिंग इंजेक्शन: लिंग में सीधे इंजेक्शन लगाकर भी इसके टेढ़ेपन को कम किया जा सकता है। यह उपचार कई महीनों तक चल सकता है। इंटरफेरॉन (Interferon) नामक इंजेक्शन स्कार टिश्यू को तोड़ने और इसके उत्पादन को कम करने में मदद करता है। वेरापामिल (Verapamil), जो एक हाई ब्लड प्रेशर की दवा है, भी स्कार टिश्यू को बनने से रोक सकती है।

हालांकि, लिंग इंजेक्शन पर केवल छोटे शोध किए गए हैं। साथ ही, यूरोलॉजिस्ट इस बात से भी चिंतित होते हैं कि इंजेक्शन खुद स्किन को छिद्रित करते हुए और घावों का कारण बन सकते हैं, जो स्कार टिश्यू वृद्धि को प्रोत्साहित कर सकते हैं।

विटामिन ई और पोटेशियम एमिनोबेंजोएट: ये दवाएं दर्द को कम कर सकती हैं, लेकिन आमतौर पर पहले से मौजूद असामान्य टेढ़ेपन पर कोई महत्वपूर्ण प्रभाव नहीं डालतीं।

टेमोक्सीफेन (Tamoxifen): स्तन कैंसर के इलाज के लिए इस्तेमाल की जाने वाली यह दवा कुछ रोगियों के लिंग में दर्द, टेढ़ापन और गांठ के आकार को कम कर सकती है।

कोलेजिनेस (Collagenase): यह एक एंजाइम है जो स्कार टिश्यू की गाँठ के आकार को कम करता है, और कभी-कभी उन्हें पूरी तरह से ठीक भी कर सकता है।

बिना दवा वाले विकल्प

पेरोनी रोग से पीड़ित कुछ व्यक्तियों को निम्न तरीकों से राहत मिल सकती है:

  • शॉक वेव थेरेपी – स्कार टिश्यू को तोड़ने में मदद करती है।
  • लिंग ट्रैक्शन थेरेपी – लिंग को खींचकर स्कार टिश्यू को तोड़ने में मदद करती है।
  • लिंग वर्धक यंत्र और वैक्यूम पंप

जीवनशैली में बदलाव

अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव लाकर भी लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है:

  • शराब का सेवन कम करें
  • धूम्रपान बिलकुल भी न करें
  • अवैध ड्रग्स और दवाओं से दूर रहें
  • नियमित रूप से व्यायाम करें

सर्जरी

यदि टेढ़ापन गंभीर है और व्यक्ति को यौन संबंध बनाने से रोकता है, तो यूरोलोजिस्ट सर्जरी की सलाह देते हैं। अधिकांश विशेषज्ञों का कहना है कि सर्जरी करवाने पर विचार करने से पहले व्यक्ति को कई महीनों तक लिंग में कोई दर्द नहीं होना चाहिए; इसके अलावा, टेढ़ापन का बढ़ना बंद हो जाना चाहिए।

लिंग की साइड को छोटा करना

लिंग की अप्रभावित साइड, जहाँ पर स्कार टिश्यू नहीं बने हैं, उसे छोटा करके लिंग खड़ा होने के दौरान उसके एक तरफ टेढ़ा होने की समस्या को दूर किया जा सकता है।

हालाँकि यह प्रक्रिया आपके लिंग की सामान्य लंबाई को छोटा कर देती है।

यदि आपके लिंग का टेढ़ापन अधिक गंभीर नहीं है और आपके लिंग की लम्बाई ज्यादा है, तो इस विकल्प पर विचार किया जा सकता है, क्योंकि फिर इसमें लिंग की लम्बाई को ज्यादा छोटा करने की आवश्यकता नहीं होगी।

लिंग की साइड को लम्बा करना

स्कार टिश्यू पर कई जगह कट लगाकर लिंग को दोबारा सीधा करना संभव है।

इस प्रक्रिया के दौरान, कुछ स्कार टिश्यू को हटाया भी जा सकता है, जबकि कुछ गड्ढों को भरने के लिए उनमें निकाले गए स्कार टिश्यू डाले जा सकते हैं।

इस प्रक्रिया की सलाह आमतौर पर उन व्यक्तियों के लिए बेहतर होती है जिनके लिंग की लम्बाई कम हो या टेढ़ापन अधिक गंभीर हो।

हालांकि, लिंग को छोटा करने वाली प्रक्रिया के मुक़ाबले इस प्रक्रिया में नपुंसकता होने की सम्भावना ज्यादा होती है।

निष्कर्ष

लिंग के टेढ़ेपन की सबसे मुख्य जटिलता है दर्द, स्तंभन दोष या दोनों के कारण संभोग करने में असमर्थ होना।

रोगी को गंभीर चिंता और तनाव का भी अनुभव हो सकता है, जिससे स्तम्भन दोष की समस्या और ज्यादा बिगड़ सकती है।

यदि आपके लिंग में टेढ़ापन है जो आपमें कई परेशानियाँ पैदा कर रहा है, तो आपको अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए।

इसके उपचार के कई विकल्प उपलब्ध हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.