पेनिस में तनाव बढ़ाने वाली 6 मेडिकल दवाओं के नाम

पेनिस में पर्याप्त तनाव न होने से व्यक्ति की सेक्स लाइफ पर काफी बुरा असर पड़ता है और वह खुद को व अपनी पार्टनर को पूरी तरह से संतुष्ट करने में असक्षम हो जाता है।

यह समस्या अक्सर शरीर में किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या के कारण होती है।

अमेरिका की यूरोलॉजी केयर फाउंडेशन के अनुसार कुछ मेडिकल दवाओं के सेवन से पेनिस में तनाव बढ़ाया जा सकता है।

यदि आप इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए मेडिकल दवाओं की खोज कर रहे हैं, तो नीचे दी गई लिस्ट देखें। इन दवाओं को कैसे लेना है और इनके क्या-क्या दुष्प्रभाव हो सकते हैं, इसकी जानकारी रखकर आपको डॉक्टर से उचित मेडिकल दवाओं के विकल्पों पर चर्चा करने में मदद मिल सकती है।

नोट – किसी भी स्थिति में बिना डॉक्टर की सलाह के इन दवाओं का सेवन न करें।

  1. एल्प्रोस्टेडिल (Alprostadil)
  2. अवनाफिल (Avanafil)
  3. सिल्डेनाफिल (Sildenafil)
  4. टाडालाफिल (Tadalafil)
  5. टेस्टोस्टेरोन
  6. वार्डेनफिल (Vardenafil)

एल्प्रोस्टेडिल (Alprostadil)

एल्प्रोस्टेडिल (Alprostadil)

एल्प्रोस्टेडिल एक इंजेक्शन के रूप में आती है।

आपको सेक्स करने से 5 से 20 मिनट पहले इस इंजेक्शन को सीधे अपने पेनिस में इंजेक्ट करना होता है।

MUSE (या मेडिकेटेड यूरेथ्रल सिस्टम फॉर इरेक्शन) के साथ, इस इंजेक्शन को सेक्स से 5 से 10 मिनट पहले लगाया जाना चाहिए। 24 घंटे की अवधि में इसे दो बार से अधिक उपयोग नहीं किया जाना चाहिए।

काम करने का तरीका

एल्प्रोस्टेडिल एक वाहिका विस्फारक दवा होती है। यानी यह पेनिस की रक्त वाहिकाओं और मांसपेशियों को फैला देती है, जिससे उत्तेजना के दौरान उनमें ज्यादा रक्त भरता है और पेनिस ज्यादा लम्बा मोटा और कठोर होता है।

दुष्प्रभाव

इस दवा के सामान्य दुष्प्रभाव हैं – पेनिस और अंडकोष में दर्द और मूत्रमार्ग में जलन होना।

अवनाफिल (Avanafil)

अवनाफिल (Avanafil)

अवनाफिल एक PDE5 अवरोधक है, जो टेबलेट्स के रूप में उपलब्ध होती है। आपको इसे सेक्स करने से लगभग 15 मिनट पहले लेना चाहिए। इसे प्रति दिन एक से अधिक बार न लें।

यदि आप हृदय रोग के इलाज के लिए नाइट्रेट ले रहे हैं, तो आपको किसी भी PDE5 अवरोधक का उपयोग नहीं करना चाहिए।

नाइट्रेट्स के उदाहरणों में आइसोसोरबाइड मोनोनिट्रेट (मोनोकेट) और नाइट्रोग्लिसरीन (नाइट्रोस्टेट) शामिल हैं।

अवानाफिल के साथ नाइट्रेट लेने से रक्तचाप गंभीर रूप से कम हो सकता है और मृत्यु भी हो सकती है।

काम करने का तरीका

उत्तेजना के दौरान पेनिस में नाइट्रिक ऑक्साइड का उत्पादन और स्त्राव बढ़ जाता है।

यह नाइट्रिक ऑक्साइड पेनिस में साइक्लिक ग्वानोसिन मोनोफॉस्फेट (cGMP) के उत्पादन को उत्तेजित करता है।

cGMP पेनिस में रक्त लाने वाली वाहिकाओं को फैलाकर चौड़ा कर देता है और रक्त को बाहर ले जाने वाली वाहिकाओं को सिकोड़ देता है। इसके फलस्वरूप लिंग में रक्त जमा होने लगता है और वह लम्बा मोटा व कठोर हो जाता है।

जब cGMP एक अन्य एंजाइम फॉस्फोडिएस्टरेज़-5 द्वारा नष्ट कर दिया जाता है, तो रक्त वाहिकाएं अपने सामान्य आकार में लौट आती हैं। इससे रक्त लिंग से बाहर आने लगता है और वह बैठ जाता है।

अवनाफिल दवा फॉस्फोडिएस्टरेज़-5 को cGMP को नष्ट करने से रोकती है, ताकि cGMP अधिक समय तक बना रहे।

cGMP के बने रहने से पेनिस लम्बे समय तक खड़ा रहता है और इसके तनाव को ज्यादा कठोर बनाये रखने में मदद मिलती है।

दुष्प्रभाव

अवानाफिल दवा के कुछ सामान्य दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • सिरदर्द
  • निस्तब्धता, या आपके चेहरे का लाल होना और गर्म होना
  • नाक ठसना या बहना
  • पीठ दर्द
  • गले में खराश

सिल्डेनाफिल (Sildenafil)

सिल्डेनाफिल (Sildenafil)

सिल्डेनाफिल को वियाग्रा के नाम से काफी जाना जाता है। यह भी एक PDE5 अवरोधक होती है, जो सिर्फ मौखिक दवा के रूप में मिलती है।

आपको इसे प्रति दिन केवल एक बार, सेक्स से लगभग 30 से 60 मिनट पहले लेना चाहिए।

काम करने का तरीका

अवनाफिल के समान

दुष्प्रभाव

इसके कुछ समस्या दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • सिरदर्द
  • चेहरे पर लालिमा
  • नाक ठसना या बहना
  • पीठ दर्द
  • पेट की खराबी
  • मांसपेशियों में दर्द
  • दृष्टि परिवर्तन, जैसे धुंधली दृष्टि और कुछ रंगों के दिखने में परिवर्तन

टाडालाफिल (Tadalafil)

टाडालाफिल (Tadalafil)

टाडालाफिल एक मौखिक दवा है, जो आपके पूरे शरीर में रक्त के प्रवाह को बढ़ाती है।

आप इस PDE5 अवरोधक को सेक्स से लगभग 30 मिनट पहले लें, और प्रति दिन एक से अधिक बार न लें।

शरीर में इसका प्रभाव 36 घंटों तक रह सकता है।

काम करने का तरीका

अवनाफिल के समान

दुष्प्रभाव

इसके दुष्प्रभाव भी सिल्डेनाफिल के समान होते हैं।

टेस्टोस्टेरोन

टेस्टोस्टेरोन दवा

टेस्टोस्टेरोन पुरुष शरीर में मुख्य सेक्स हार्मोन होता है। यह शरीर के समग्र स्वास्थ्य में भी भूमिका निभाता है।

उम्र बढ़ने के साथ-साथ टेस्टोस्टेरोन का स्तर स्वाभाविक रूप से गिरता जाता है।

इसके फलस्वरूप पेनिस में ढीलापन और अन्य समस्याएं हो सकती हैं, जैसे

पेनिस में तनाव दूर करने के लिए डॉक्टर कभी-कभी टेस्टोस्टेरोन की दवाएं लिखते हैं।

वास्तव में, टेस्टोस्टेरोन की कमी वाले पुरुषों में, PDE5 अवरोधक दवा के साथ टेस्टोस्टेरोन की दवा का उपयोग किए जाने पर वह ज्यादा प्रभावी होती हैं।

पेनिस में तनाव बढ़ाने के लिए टेस्टोस्टेरोन की दवाएँ कई रूपों में आती हैं, जैसे मौखिक दवाएँ, जेल, कैप्सूल, इंजेक्शन आदि। आपके लिए कौनसी दवा बेहतर होगी, इसकी सलाह अपने डॉक्टर से लें।

दुष्प्रभाव

हालाँकि, टेस्टोस्टेरोन की दवा भी कई दुष्प्रभावों के साथ आती है।

यह आपमें दिल की बीमारी और दिल के दौरे की सम्भावना को बढ़ा देती है। इन जोखिमों के कारण, डॉक्टर्स जिन पुरुषों में कुछ स्वास्थ्य समस्याओं के कारण टेस्टोस्टेरोन कम हुआ है, सिर्फ उन्हें ही टेस्टोस्टेरोन दवा को लेने की सलाह देते हैं।

यदि आपका डॉक्टर आपको टेस्टोस्टेरोन की दवा लिखता है तो निश्चित रूप से वो आपकी काफी गहराई से जाँच करेगा। वह इस दवा के साथ आपके उपचार से पहले और उसके दौरान आपके शरीर में टेस्टोस्टेरोन के स्तर का नियमित परीक्षण करेगा।

यदि इस दौरान आपका टेस्टोस्टेरोन का स्तर बहुत अधिक बढ़ जाता है, तो आपका डॉक्टर दवा का सेवन बंद करने को कहेगा या खुराक कम कर देगा।

टेस्टोस्टेरोन दवा के दुष्प्रभाव निम्न हैं –

  • मुँहासे
  • महिलाओं की तरह स्तन उभरना
  • शरीर में द्रव प्रतिधारण होना जो सूजन का कारण बनता है
  • बाइपोलर जैसे बार-बार मूड बदलना
  • स्लीप एपनिया, या नींद के दौरान सांस लेने में रुकावट होना

वार्डेनफिल (Vardenafil)

वार्डेनफिल (Vardenafil)

वार्डेनफिल भी एक मौखिक दवा है, जो PDE5 अवरोधक का काम करती है।

आप इसे जरूरत पड़ने पर सेक्स से 60 मिनट पहले लें। आप अपने डॉक्टर की सलाह पर इस दवा को दिन में एक बार तक ले सकते हैं।

दुष्प्रभाव

इस दवा के आम दुष्प्रभाव निम्न हैं:

  • सिरदर्द
  • नाक बंद होना या बहना
  • पीठ दर्द
  • पेट में खराबी
  • सिर चकराना

विटामिन और सप्लीमेंट

बाजार में कई विटामिन और सप्लीमेंट्स उपलब्ध हैं जो पेनिस में तनाव बढ़ाने का दावा करते हैं।

हालांकि, ये कितने फायदेमंद हो सकते हैं और इनके दुष्प्रभाव क्या-क्या हो सकते हैं, इसके लिए अभी तक कोई पुख्ता सबूत मौजूद नहीं हैं।

साथ ही, कुछ सप्लीमेंट जिन्हें “100 प्राकृतिक” के रूप में विज्ञापित किया जाता है, उनमें फिर भी केमिकल हो सकते हैं। इसलिए यह सप्लीमेंट आपके द्वारा ली जा रही अन्य दवाओं को प्रभावित कर सकते हैं, और आपमें साइड इफ़ेक्ट पैदा कर सकते हैं।

इसलिए पेनिस का तनाव बढ़ाने वाले किसी भी विटामिन या सप्लीमेंट का उपयोग करने से पहले अपने डॉक्टर से बात करें।

दवा लेने से पहले ध्यान देने योग्य बातें

पेनिस में तनाव न आने से ग्रसित सभी लोगों को मेडिकल दवाएँ लेने की आवश्यकता नहीं होती। इसलिए यदि आपको यह समस्या है, तो सबसे पहले अपने फैमिली डॉक्टर से अपनी पूरी जाँच करवाएं। इसमें आपकी शारीरिक जाँच, लैब टेस्ट और सम्पूर्ण मेडिकल और मनोवैज्ञानिक इतिहास शामिल है।

पूरी जाँच होने के बाद यदि आपमें कोई सेक्स से सम्बंधित शारीरिक समस्या निकलती है, तभी इन दवाओं का सेवन करें।

किसी मनोवैज्ञानिक समस्या जैसे परफॉरमेंस की चिंता या रिश्तों में तनाव के कारण यदि आपके लिंग में तनाव न आने की समस्या है, तो किसी अच्छे मनोवैज्ञानिक चिकित्सक से मिलें। साथ ही, नियमित एक्सरसाइज, व्यायाम और मेडिटेशन करने से इन समस्याओं से जल्दी छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।

बीमारी के कारण होने वाली समस्या

अनुपचारित डायबिटीज, ब्लड प्रेशर, या किसी अन्य बीमारी के कारण आपको लिंग में तनाव न आने की समस्या हो सकती है। इसलिए, इन बीमारियों का उचित इलाज करके समस्या से निजात पाई जा सकती है।

दवाओं के सेवन से होने वाली समस्या

किसी अन्य बीमारी की दवा के दुष्प्रभाव के रूप में आपको पेनिस में तनाव न आने की समस्या हो सकती है। अक्सर निम्न बीमारियों की दवाओं के सेवन से यह समस्या होती है:

  • हाई ब्लड प्रेशर
  • दिल की बीमारी
  • डिप्रेशन
  • दिमागी दौरा
  • कैंसर

आपका डॉक्टर इन दवाओं की समीक्षा कर सकता है, और इनकी जगह ऐसी दवाएं लिख सकता है जिनसे आपके पेनिस में समस्या न आये।

नोट: कभी भी बिना डॉक्टर की सलाह से इन बीमारियों की दवाओं का सेवन करना बंद न करें।

खराब जीवनशैली जीने के कारण होने वाली समस्या

कभी-कभी खराब जीवनशैली जीने से भी पेनिस की समस्याएं हो सकती हैं। इसलिए समग्र स्वास्थ्य और कल्याण को बढ़ावा देने वाली आदतों को अपनाने से, आपके पेनिस की समस्या को भी सुधारने में मदद मिल सकती है।

यदि आप धूम्रपान और शराब का सेवन करते हैं, तो इन्हें सीमित करने या पूरी तरह छोड़ने की कोशिश करें। अपने वजन को नियंत्रित करें, नियमित योग व एक्सरसाइज करें और अत्यधिक तले-भुने भोजन व फ़ास्ट फूड्स से परहेज करें।

इन दवाओं को कैसे खरीदें

चूँकि ऊपर दी गईं सभी मेडिकल दवाएं Rx चिंहित हैं, यानि इन्हें बिना डॉक्टर के पर्चे के नहीं ख़रीदा जा सकता। इसलिए आपको सबसे पहले अपने डॉक्टर से मिलने कोई आवश्यकता होगी और उसके द्वारा यह दवाएं लिखने पर ही आप इनका सेवन कर सकते हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.