लिंग की नसों में कमजोरी दूर करने के 11 तरीके

लिंग की नसों में कमजोरी किसी भी उम्र के पुरुषों को हो सकती है।

हालाँकि इसके इलाज के लिए डॉक्टर दवाओं या सर्जरी की सलाह देते हैं, लेकिन कुछ आसान प्राकृतिक तरीके भी हैं जो मददगार हो सकते हैं।

लिंग की नसों में कमजोरी से ग्रसित पुरुष को इनमें से कुछ या सभी लक्षणों का अनुभव हो सकता है:

अक्सर लिंग की नसों में कमजोरी से ग्रसित पुरुषों को मधुमेह या दिल की बीमारी होती है, या वह मोटापा या आलस्य से ग्रसित होते हैं। लेकिन उनके यौन अंगों पर इन स्वास्थ्य स्थितियों का कितना बड़ा प्रभाव हो सकता है, इसका उन्हें अहसास ही नहीं होता।

इसलिए अक्सर डॉक्टर इसके इलाज में मरीज को दवाओं के साथ-साथ शारीरिक रूप से सक्रिय होने या वजन कम करने की सलाह भी देते हैं।

लिंग में ढीलापन और नसों में कमजोरी होने के कई कारण हो सकते हैं, जिनमें लिंग के रक्त संचार में रुकावट, मधुमेह, दिल की बीमारी, मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर, हाई कोलेस्ट्रॉल और यहां तक कि नींद संबंधी विकार जैसी शारीरिक समस्याएं शामिल हैं।

शराब, धूम्रपान और कुछ मेडिकल दवाओं के सेवन से भी लिंग कमजोर हो सकता है।

इसके अलावा, मानसिक समस्याओं जैसे चिंता, तनाव, डिप्रेशन और रिश्तों में खटाश के कारण भी लिंग की कमजोरी हो सकती है।

इसके अलावा अस्वस्थ या तनावपूर्ण जीवनशैली जीने से भी शरीर के अंगों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जिसमें लिंग भी शामिल है।

लिंग की कमजोरी को नजरअंदाज करने पर व्यक्ति को कई और समस्याएं भी हो सकती हैं, जैसे असंतोषजनक यौन जीवन, आत्म सम्मान में कमी, अत्यधिक चिंता और रिश्तों में खराबी।

अगर पुरुष इस समस्या से पीड़ित है, तो उसे अपनी पार्टनर को प्रेग्नेंट करने में भी समस्याएं आ सकती हैं।

इसलिए इस समस्या का जल्द से जल्द इलाज करना बहुत ही जरूरी है।

2014 में जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल मेडिसिन में पब्लिश हुए एक शोध में पाया गया कि पुरुष अपनी जीवनशैली में कुछ स्वस्थ बदलाव जैसे नियमित व्यायाम, वजन नियंत्रण और उचित खानपान लाकर अपने लिंग की कमजोरी को दूर कर सकते हैं।

ऑस्ट्रेलियाई शोधकर्ताओं ने यह भी बताया कि भले ही आपको डॉक्टर से दवा लेने की जरूरत हो, यदि आप इन स्वस्थ जीवन शैली में बदलावों को अपनाते हैं, तो दवा ज्यादा प्रभशाली होगी।

यदि आप मेडिकल दवा की खोज कर रहे हैं, तो डॉक्टर्स द्वारा प्रमाणित ऐसी कई दवाएं हैं जो आपके लिंग को मोटा-लम्बा और कठोर बनाकर सेक्स करने के लिए पर्याप्त इरेक्शन प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं –

  • Stendra (avanafil)
  • Viagra (sildenafil)
  • Cialis (tadalafil)
  • Levitra or Staxyn (vardenafil)

हालाँकि इन दवाओं को लेने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

इसके अलावा लिंग की नसों में कमजोरी दूर करने के प्राकृतिक तरीके निम्न हैं –

  1. एल-आर्जिनाइन
  2. DHEA
  3. जिनसेंग
  4. अनार का रस
  5. एक्सरसाइज
  6. उचित खानपान
  7. अच्छी नींद लें
  8. धूम्रपान छोड़ दें
  9. शराब का सेवन कम करें
  10. दवाओं के सेवन पर ध्यान दें
  11. एक्यूपंक्चर

एल-आर्जिनाइन

एल-आर्जिनाइन

एल-आर्जिनाइन एक प्राकृतिक एमिनो एसिड होता है, जो खाद्य पदार्थों में प्राकृतिक रूप से पाया जाता है।

यह शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड के प्रोडक्शन को बड़ा देता है, जो रक्त कोशिकाओं को चौड़ा करके लिंग में रक्त संचार को बढ़ाता है और लिंग को पूरा खड़ा करने में मदद करता है।

2009 में BJU International में पब्लिश हुए एक शोध में पाया गया कि एल-आर्जिनाइन की उच्च खुराक यौन क्रिया को बेहतर बनाने में मदद कर सकती है, लेकिन केवल उन पुरुषों में जिन्हें नाइट्रिक ऑक्साइड की कमी हो।

2003 में हुए एक अन्य शोध में, बल्गेरियाई वैज्ञानिकों ने बताया कि नामर्दी और लिंग की नसों में कमजोरी से पीड़ित पुरुषों द्वारा एल-आर्जिनाइन लेने पर उनमें बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के अपनी यौन क्रिया में बड़े सुधार देखे।

न्यूयोर्क के इंटीग्रेटिव यूरोलॉजिकल सेंटर के डायरेक्टर Geo Espinosa कहते हैं “लिंग की कमजोरी दूर करने के लिए एल-आर्जिनाइन कारगर साबित हो सकता है, लेकिन यदि आप दिल की बीमारी या कोई ब्लड की समस्या से पीड़ित हैं, तो इसका सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह लें, क्योंकि यह कुछ दवाओं के साथ रिएक्शन कर सकता है।”

DHEA (Dehydroepiandrosterone)

DHEA (Dehydroepiandrosterone)

टेस्टोस्टेरोन एक स्वस्थ कामेच्छा और सामान्य यौन क्रिया के लिए आवश्यक है, और अक्सर लिंग की कमजोरी से पीड़ित लोगों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम पाया जाता है।

DHEA एक प्राकृतिक हॉर्मोन होता है, जो शरीर में टेस्टोस्टेरोन और एस्ट्रोजन में बदल जाता है। इसलिए DHEA के सप्लीमेंट्स लेने से आपको लिंग पूरा खड़ा करने में मदद मिल सकती है।

जिनसेंग

जिनसेंग

कोरियाई जिनसेंग को काफी लम्बे समय से पुरुषों की सेक्स हेल्थ में सुधार लाने के लिए इस्तेमाल किया जाता आ रहा है।

2002 में 45 पुरुषों पर हुए एक शोध के अनुसार जिनसेंग ने लिंग की कमजोरी के लक्षणों को कम करने में मदद की और लिंग की कठोरता को बढ़ाया

लेकिन विशेषज्ञों को नहीं पता कि जिनसेंग कैसे काम करता है, हालांकि ऐसा माना जाता है कि यह नाइट्रिक ऑक्साइड के प्रोडक्शन को बढ़ावा देता है।

अनार का रस

अनार का रस

एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर अनार का रस पीने के कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं, जिसमें हृदय रोग और उच्च रक्तचाप के जोखिम को कम करना भी शामिल है।

International Journal of Impotence Research में पब्लिश हुए एक शोध में अनार के रस को लिंग की नसों में कमजोरी और नामर्दी के लिए भी फायदेमंद पाया गया है। हालाँकि इस शोध में 100% प्राकृतिक अनार के रस का उपयोग किया गया था।

शोधकर्ताओं के अनुसार अनार का रस एंडोथेलियल नाइट्रिक ऑक्साइड (NO) के स्तर को बढ़ाता है, जो लिंग के रक्त संचार को सीधे प्रभावित करता है।

इसलिए अपने लिंग को मजबूत बनाने के लिए नियमित रूप से अनार के रस का सेवन करें।

एक्सरसाइज

नियमित एक्सरसाइज करें

अपनी जीवनशैली में लाये जाने वाले कई स्वस्थ बदलाव लिंग की कमजोरी के उपचार में मदद करते हैं, जिसमें एक्सरसाइज सबसे ज्यादा प्रभावशाली होती है।

जननांगों के विकारों का मुकाबला करने के लिए एक्सरसाइज कई मोर्चों पर काम करती है, जैसे रक्त वाहिकाओं को साफ़ करके लिंग तक पर्याप्त रक्त पहुँचाना, दिल को स्वस्थ रखना, शरीर के अतिरिक्त फैट और कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करना, टेस्टोस्टेरोन के स्तर को बढ़ाना आदि।

एक्सरसाइज रक्त वाहिकाओं में नाइट्रिक ऑक्साइड को बढ़ाकर भी रक्तचाप में सुधार करती है, जो लिंग को मजबूती से खड़ा करने के लिए बेहद जरूरी होता है। इसी तरह से वियाग्रा काम करता है।

खासतौर से वजन उठाने वाली एक्सरसाइज टेस्टोस्टेरोन के प्राकृतिक उत्पादन को बढ़ा सकती हैं, जो लिंग मोटा लम्बा करने और सेक्स ड्राइव बनाये रखने के लिए बहुत जरूरी होता है।

उचित खानपान

उचित खानपान

आप जो भी खाते हैं उसका सीधा असर आपके यौन अंगों पर पड़ता है।

इसलिए फल, सब्जियां, साबुत अनाज और मछली से भरपूर आहार लें और तले-भुने व अत्यधिक फैट वाले आहार से परहेज करें।

एक स्वस्थ आहार आपके वजन को नियंत्रित करने में भी मदद करता है, जो लिंग के स्वास्थ्य के लिए बहुत ही जरूरी है, क्योंकि 42 इंच की कमर वाले पुरुषों में 32 इंच की कमर वाले पुरुषों की तुलना में लिंग की कमजोरी होने की संभावना 50 प्रतिशत अधिक होती है।

इसके अलावा, मोटापा के कारण व्यक्ति में दिल की बीमारी, रक्त संचार विकार और मधुमेह होने का जोखिम को बढ़ जाता है, जो लिंग की कमजोरी के सबसे मुख्य कारक होते हैं।

अच्छी नींद लें

अच्छी नींद लें

नींद का ख़राब पैटर्न भी लिंग कमजोरी का कारक बन सकता है।

ब्रेन रिसर्च जर्नल में पब्लिश हुए एक शोध के अनुसार टेस्टोस्टेरोन, सेक्स हेल्थ और नींद के बीच काफी गहरा सम्बन्ध होता है। उन्होंने पाया कि बेहतर नींद लेने से टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है और अक्सर सेक्स समस्याओं से पीड़ित लोगों में नींद की कमी देखी जाती है।

हार्मोन स्राव को शरीर की आंतरिक घड़ी द्वारा नियंत्रित किया जाता है, और नींद के पैटर्न से शरीर को यह निर्धारित करने में मदद मिलती है कि कुछ हार्मोन को कब निकालना है।

इसलिए सोने के एक निर्धारित पैटर्न का पालन करना, लिंग कमजोरी दूर करने का एक प्राकृतिक उपाय है।

धूम्रपान छोड़ दें

धूम्रपान छोड़ दें

कई पुरुषों के लिए धूम्रपान छोड़ना एक अच्छा उपाय हो सकता है, खासतौर से तब जब आपके लिंग की नसों में कमजोरी किसी धमनी विकार या रक्त संचार की समस्याओं के कारण आई हो।

धमनी विकार में धमनियाँ सिकुड़ जाती हैं या ब्लॉक हो जाती हैं, जिससे लिंग तक पर्याप्त रक्त नहीं पहुँच पाता।

धूम्रपान और यहां तक कि धुआं रहित तंबाकू (गुटखा) भी महत्वपूर्ण रक्त वाहिकाओं के सिकुड़ने का कारण बन सकता है और आपके रक्त संचार पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

इसलिए यदि आप धूम्रपान करते हैं, तो इसे छोड़ने का प्रयास करें।

शराब का सेवन कम करें

शराब का सेवन कम करें

शराब में पाया जाने वाला अल्कोहल एक अस्थाई अवसाद रोधी होता है।

इसलिए अत्यधिक शराब का सेवन करने से शरीर के प्राकृतिक अवसाद रोधी क्रियाओं पर बुरा असर होता है और आपमें अस्थाई या दीर्घकालिक लिंग की कमजोरी बन सकती है।

हमारा सेंट्रल नर्वस सिस्टम शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड के स्त्राव को नियंत्रित करता है, जो लिंग को खड़ा करने और लम्बे समय तक खड़ा बनाये रखने के लिए जरूरी होता है।

और अत्यधिक शराब का सेवन सेंट्रल नर्वस सिस्टम को दबा देता है, जिससे इसके काम करने की क्षमता पर बुरा असर पड़ता है।

इसलिए यदि आप लिंग की नसों में कमजोरी से परेशान हैं तो शराब का सेवन कम से कम करें।

दवाओं के सेवन पर ध्यान दें

दवाओं के सेवन पर ध्यान दें

किसी अन्य स्वास्थ्य समस्या के लिए ली गई दवाओं के साइड इफ़ेक्ट के कारण भी लिंग की नसों में कमजोरी हो सकती है।

आमतौर पर हाई ब्लड प्रेशर की दवाएँ, अवसाद रोधी, कुछ मूत्र वर्धक, बीटा अवरोधक, दिल की दवाएँ, कोलेस्ट्रॉल की दवाएँ, मनोरोग प्रतिरोधी, हॉर्मोन दवाएँ, कोर्टिकोस्टेरोइड, कीमोथेरपी और गंजेपन की दवाएँ लिंग की नसों को प्रभावित कर सकती हैं।

अगर आपको लगता है कि किसी दवा के सेवन के कारण आपके लिंग में कमजोरी आ रही है, तो अपने डॉक्टर से बात करें, लेकिन खुद से इसका सेवन करना बंद न करें।

एक्यूपंक्चर

एक्यूपंक्चर

2013 में Journal of Alternative and Complementary Medicine में पब्लिश हुए एक शोध के अनुसार SSRIs और SNRIs जैसी अवसाद रोधी दवाओं के साइड इफ़ेक्ट के रूप में लिंग की कमजोरी की समस्या का अनुभव करने वाले पुरुषों के लिए एक्यूपंक्चर फायदेमंद हो सकता है।

इन दवाओं को लेने वाले कम से कम आधे लोगों को इसके यौन दुष्प्रभाव होते हैं, और कुछ मामलों में तो यह 90 प्रतिशत तक होते हैं।

निष्कर्ष

लिंग की कमजोरी का उपचार आपके दिल और रक्त वाहिकाओं के स्वास्थ्य की देखभाल के साथ शुरू होता है।

इसे ठीक करने के लिए आप कई कदम उठा सकते हैं। इनमें से कई कदमों में आपको अपनी जीवनशैली में बदलाव करना होता है। इसलिए, यह न केवल लिंग की नसों में कमजोरी को रोकने के लिए, बल्कि आपके संपूर्ण स्वास्थ्य में सुधार के लिए भी अच्छे हैं।

लिंग कमजोरी को ठीक करने में मदद के लिए नीचे दी गई सलाह का पालन करें:

  • दिल की बीमारी और डायबिटीज जैसी मेडिकल कंडीशंस को नियंत्रण में रखें।
  • नियमित रूप से एक्सरसाइज करें।
  • वजन और मोटापा को कंट्रोल में रखें।
  • स्वस्थ आहार खाने पर ध्यान दें और तले-भुने व अत्यधिक वसा युक्त भोजन से परहेज करें।
  • अपने तनाव को कम करने या प्रबंधित करने के तरीके खोजें।
  • धूम्रपान छोड़ दें।
  • शराब का सीमित मात्रा में सेवन करें।

आपको नियमित रूप से अपना फुल बॉडी चेकअप करवाते रहना चाहिए।

आपका डॉक्टर आपके ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल के स्तर जैसे महत्वपूर्ण नैदानिक मापों की जांच करेगा।

यह उन स्थितियों की शीघ्र पहचान और उपचार करने में मदद करेगा, जो संभावित रूप से आपके लिंग की नसों में कमजोरी का कारण बन रही हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.