लिंग की नस फूलने या सख्त होने के कारण, लक्षण और इलाज

लिंग की नस या लसिका वाहिका के सख्त होने की स्थिति को मेडिकल भाषा में लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस (lymphangiosclerosis) या स्क्लेरोटिक लिम्फैंगाइटिस (sclerotic lymphangitis) कहा जाता है।

यह अक्सर आपके लिंग के सिर के नीचे या शाफ्ट के चारों ओर लपटी हुई एक मोटी रस्सी जैसा दिखाई देती है।

यह समस्या होना काफी दुर्लभ है, लेकिन आमतौर पर यह ज्यादा गंभीर नहीं होती और बिना उपचार के अपनेआप ठीक हो जाती है।

इस समस्या को कैसे पहचाना जाए, इसके कारण क्या हैं, और इसका इलाज कैसे किया जाता है, इसके बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें:

लक्षण

पहली नजर में, लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस आपके लिंग में उभरी हुई एक नस की तरह लग सकता है। हालाँकि यह भी ध्यान रखें कि अक्सर जोरदार सेक्स के बाद आपके लिंग की नसें बड़ी दिख सकती हैं।

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस को पहचानने के लिए भूली नस में निम्न अतिरिक्त लक्षणों की जाँच करें:

  • टच करने पर दर्द नहीं होता
  • चौड़ाई में लगभग एक इंच या उससे कम हो
  • दबाने पर सख्त हो
  • आसपास की स्किन के समान रंग हो
  • लिंग बैठने के बाद भी गायब नहीं होती

यह स्थिति आमतौर पर काफी सौम्य होती है। मतलब कि इससे आपको बहुत कम या कोई दर्द, परेशानी या नुकसान नहीं होगा।

हालाँकि, यह लक्षण कभी-कभी यौन किसी यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) से जुड़े हो सकते हैं। इस स्थिति में आपको निम्न लक्षण भी दिखाई दे सकते हैं:

  • पेशाब करते समय, खड़े होने पर या स्खलन के दौरान दर्द होना
  • पेट के निचले हिस्से या पीठ में दर्द बना रहना
  • अंडकोषों में सूजन होना
  • लिंग, अंडकोष, ऊपरी जाँघ या गुदा के आसपास लालिमा, खुजली या जलन होना
  • पेशाब में सफेद या ऑयली रिसाब निकलना
  • थकान या बुखार होना

कारण

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस आपके लिंग की किसी भी रक्त वाहिका से जुड़ी लसिका वाहिका के मोटे या सख्त होने कारण होता है। लसिका वाहिकाओं में लसिका नामक तरल पदार्थ बहता है जो रक्त रक्त कोशिकाओं से भरा होता है। यह आपके शरीर में किसी भी संक्रमण से लड़ने में मदद करता है।

आमतौर पर यह सख्तपन लिंग से जुड़ी किसी प्रकार की चोट की प्रतिक्रिया होता है। यह आपके लिंग में लसीका द्रव या रक्त के प्रवाह को प्रतिबंधित या अवरुद्ध कर सकता है।

कुछ चीजें जो लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस में योगदान कर सकती हैं, वह निम्न हैं:

  • जोरदार या रफ सेक्स करना
  • लिंग की फोरस्किन में स्कारिंग होना। स्कारिंग में स्किन पर डेड सेल्स एकत्रित होने लगते हैं
  • कोई ऐसा यौन संचारित संक्रमण होना जिससे लिंग को नुकसान पहुँचे, जैसे सिफलिस

पहचान

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस एक काफी दुर्लभ समस्या है, जिससे डॉक्टरों को इसकी पहचान करने में कठिनाई हो सकती है।

हालांकि, प्रभावित क्षेत्र का रंग आपके डॉक्टर की सकता है। आमतौर पर लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस के कारण फूली लसिका वाहिका का रंग आपकी स्किन के बाकी हिस्सों के समान होता है, जबकि रक्त वाहिकाएं गहरे नीले रंग की दिखती हैं।

उचित पहचान के लिए डॉक्टर आपके निम्न टेस्ट भी करा सकता है:

  • एंटीबाडी या वाइट ब्लड सेल्स की संख्या के लिए एक फुल ब्लड टेस्ट। शरीर में कोई भी संक्रमण होने पर वाइट ब्लड सेल्स की संख्या बढ़ जाती है।
  • किसी अन्य रोग जैसे कैंसर आदि का पता लगाने के लिए फूली नस के आसपास की स्किन का सैंपल लेना।
  • यौन संचारित संक्रमणों की जाँच के लिए पेशाब या वीर्य का सैंपल लेना।

उपचार

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस के अधिकांश मामले बिना किसी उपचार के कुछ ही हफ्तों में अपनेआप ठीक हो जाते हैं।

हालांकि, अगर यह किसी यौन संचारित संक्रमण के कारण हुआ है, तो आपको एंटीबायोटिक लेने की आवश्यकता होगी।

इसके अलावा, आपको तब तक सेक्स करने से बचना होगा जब तक कि संक्रमण पूरी तरह से ठीक न हो जाए और आपने एंटीबायोटिक दवाओं का पूरा कोर्स पूरा न कर लिया हो।

यदि हाल ही में आपने अपनी पार्टनर के साथ सेक्स किया है, तो उसका भी टेस्ट करवा लें और जरूरत पड़ने पर शुरू करें।

कारण चाहे जो भी हो, लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस के कारण आपमें लिंग खड़ा होने के दौरान या सेक्स में असहजता महसूस हो सकती है। एक बार पूरा उपचार होने के बाद यह असहजता दूर हो जानी चाहिए।

इस बीच, आप सेक्स या हस्तमैथुन के दौरान दबाव और घर्षण को कम करने के लिए पानी आधारित लुब्रीकेंट का उपयोग करके देख सकते हैं।

आमतौर पर इस समस्या का इलाज करने के लिए सर्जरी की आवश्यकता नहीं होती, लेकिन यदि लसीका वाहिका लम्बे समय तक सख्त बनी रहती है या आपको बार-बार यह समस्या होती है, तो डॉक्टर इसे सर्जरी के द्वारा निकालने की सलाह दे सकता है।

निष्कर्ष

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस एक दुर्लभ लेकिन आमतौर पर हानिरहित समस्या होती है।

यदि इसके होने का कारण कोई अंतर्निहित यौन संचारित संक्रमण नहीं है, तो इसे कुछ हफ्तों के भीतर अपने आप ठीक हो जाना चाहिए।

यदि यह ठीक नहीं हो रही है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें। वह किसी भी अंतर्निहित कारक का पता लगाने में मदद कर सकता है, जिसे उपचार की आवश्यकता होगी।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.