लिंग के रोग: आम स्थितियाँ, स्किन की समस्याएँ, एसटीआई, और बहुत कुछ

क्या आप अपने लिंग में कोई समस्या अनुभव कर रहे हैं?

यह समस्या हानिरहित स्किन की बीमारी से लेकर यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) तक किसी भी समस्या का संकेत हो सकती हैं, जिन्हें उपचार की आवश्यकता होती है।

लिंग में होने वाले विभिन्न रोगों की पहचान, लक्षण व कारणों की जानकारी के लिए और आपको डॉक्टर से कब संपर्क करना चाहिए यह जानने के लिए आगे पढ़ते रहें।

  1. आम लिंग रोग
  2. कम आम लिंग रोग
  3. लिंग स्किन की समस्याएं
  4. यौन संचारित रोग
  5. डॉक्टर से कब मिलें

आम लिंग की बीमारियाँ

चलिए सबसे पहले कुछ सामान्य समस्याओं पर एक नज़र डालते हैं, जो आपके लिंग को प्रभावित कर सकती हैं –

बैलेनाइटिस (Balanitis)

बैलेनाइटिस तब होता है जब आपके लिंग के सिर में जलन और सूजन होने लगती है। यदि आपका खतना नहीं हुआ है, तो आपको यह समस्या होने का खतरा ज्यादा होता है।

इसके लक्षण निम्न हैं:

  • लिंग की फोरस्किन में सूजन और लालिमा होना
  • फोरस्किन टाइट होना
  • लिंग से असामान्य तौर पर या बिना किसी कारण वीर्य या अन्य चिपचिपा पदार्थ निकलना
  • जननांग क्षेत्र के आसपास दर्द या खुजली होना
  • जननांगों की स्किन की संवेदनशीलता बढ़ना या जलन होना

यीस्ट इन्फेक्शन (Yeast infection)

जी हाँ, आपने सही पढ़ा है, महिलाओं की तरह पुरुषों के जननांगों में भी यीस्ट इन्फेक्शन हो सकता है। यह एक प्रकार का संक्रमण है जो फंगस के कारण होता है।

यह लाल चकत्ते के रूप में शुरू होता है, लेकिन आप अपने लिंग की त्वचा पर सफेद, चमकदार पैच भी देख सकते हैं।

लिंग में यीस्ट इन्फेक्शन होने के अन्य लक्षण निम्न हैं:

  • लिंग की स्किन असामान्य रूप नम होना
  • फोरस्किन या अन्य स्किन की परतों के नीचे एक पनीर जैसा पदार्थ बनना
  • लिंग की स्किन में जलन या खुजली का अनुभव होना

नामर्दी (Erectile dysfunction)

नामर्दी तब होती है जब आप अपने लिंग को खड़ा नहीं कर पाते या लम्बे समय तक खड़ा बनाये नहीं रख पाते।

हालाँकि आमतौर पर यह समस्या तनाव और डिप्रेशन के कारण होती है, जो कुछ समय बाद अपनेआप ठीक हो जाती है।

लेकिन यदि आपको यह समस्या अक्सर बार-बार होती है, तो इसका कारण कोई अन्य अंतर्निहित स्वास्थ्य समस्या हो सकती है। ऐसी स्थिति में आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

नामर्दी के निम्न लक्षण होते हैं:

  • लिंग को पूरा खड़ा करने में समस्या आना
  • सेक्स के दौरान लिंग को लम्बे समय तक खड़ा न रख पाना
  • सेक्स में रुचि कम होना

शीघ्रपतन (Premature ejaculation)

शीघ्रपतन तब होता है जब आप यौन क्रिया के दौरान पूर्ण संतुष्ट होने से पहले ही आप अपना वीर्य छोड़ देते हैं। आमतौर पर संभोग या हस्तमैथुन के एक मिनट से भी कम समय में।

हालाँकि शीघ्रपतन अनिवार्य रूप से कोई स्वास्थ्य समस्या नहीं होता, लेकिन इसके कारण आप लम्बे समय तक सेक्स नहीं कर पाते और आपके संबंधों में दरार आने लगती है।

अगर कभी-कभार शीघ्रपतन हो जाए तो आपको चिंता करने की जरूरत नहीं है। लेकिन अगर ऐसा अक्सर होता है, तो आपको उपचार के विकल्पों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करना चाहिए, जिसमें वीर्य जल्दी गिरने से रोकने की तकनीकें, लम्बा सेक्स करने की तकनीकें और परामर्श शामिल हैं।

पेरोनी रोग

पेरोनी रोग में पुरुष का लिंग अत्यधिक टेड़ा हो जाता है और सेक्स के दौरान उसमें दर्द होता है

लिंग का थोड़ा टेड़ा होना पूरी तरह से सामान्य है, जो लिंग के प्रकारों में से एक होता है।

लेकिन पेरोनी रोग से जुड़ा टेढ़ापन आमतौर पर अधिक विशिष्ट होता है।

यह लिंग की चोट या आघात के परिणामस्वरूप हो सकता है।

पेरोनी रोग के लक्षण निम्न हैं:

  • लिंग का अत्यधिक टेढ़ापन
  • आपके लिंग की शाफ्ट के नीचे या किनारे पर या चारों ओर कठोर गांठ या अतिरिक्त ऊतकों का निर्माण
  • लिंग खड़ा होने या स्खलन के दौरान दर्द और बेचैनी अनुभव होना
  • पहले के मुक़ाबले लिंग का ज्यादा सिकुड़ना या छोटा होना

कम आम लिंग की बीमारियाँ

निम्नलिखित लिंग रोग अधिक गंभीर होते हैं, लेकिन यह अक्सर बहुत कम लोगों को होते हैं।

प्रियपिज्म (Priapism)

जब वीर्य स्खलन के दौरान लिंग में दर्द होता है और यह अगले चार घंटों से अधिक समय तक बना रहता है, तो इस समस्या को प्रियपिज्म कहा जाता है।

प्रियपिज्म रोग दो प्रकार का होता है –

  • लो-फ्लो (ischemic), जिसमें रक्त आपके लिंग के ऊतकों में फंस जाता है।
  • हाई-फ्लो (nonischemic), जो रक्त वाहिकाओं के फटने के कारण होता है, जिससे लिंग के अंदर और बाहर के रक्त प्रवाह पर बुरा असर पड़ता है।

प्रियपिज्म के अन्य लक्षण हैं,

  • लिंग की शाफ्ट का कठोर होना और सिरे का नरम होना
  • लिंग में दर्द होना या धक-धक की अनुभूति होना

साथ ही, यदि आपका लिंग चार घंटों से अधिक समय तक खड़ा रहता है तो भी आपको यह समस्या हो सकती। क्योंकि ऐसा लिंग में रक्त फंसने के कारण होता है, जिसकी ऑक्सीजन ख़त्म होने पर लिंग में स्थाई क्षति पहुँच सकती है। इसलिए ऐसी परिस्थिति में आपको तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना आवश्यक है।

प्रतिगामी स्खलन (Retrograde ejaculation)

प्रतिगामी स्खलन तब होता है जब आपके मूत्राशय से वीर्य को बाहर रखने वाली मांसपेशियां ठीक से काम नहीं करतीं। इससे संभोग के दौरान वीर्य आपके मूत्राशय में प्रवाहित होने लगता है।

कुछ लोग इसे सूखा स्खलन भी कहते हैं क्योंकि स्खलन के दौरान आपको वीर्य निकलने का अनुभव तो होता है लेकिन वास्तव में वीर्य नहीं निकलता और मूत्राशय में इकठ्ठा होने लगता है।

यह वीर्य तब निकलता है जब आप पेशाब करते हैं।

आमतौर पर इस समस्या को पहचानना आसान होता है, क्योंकि स्खलन के समय आपका वीर्य नहीं निकलता। पेशाब में वीर्य की उपस्थिति के कारण यह गाड़ी और चिपचिपी निकलती है।

अनोर्गैस्मिया (Anorgasmia)

अनोर्गैस्मिया या कामोन्माद रोग, तब होता है जब आपको ऑर्गाज्म या पूर्ण सम्भोग सुख प्राप्त नहीं होता है।

अनोर्गैस्मिया चार प्रकार के हो सकते हैं:

  • प्राथमिक अनोर्गैस्मिया का मतलब होता है कि आप अभी तक ऑर्गाज्म तक कभी नहीं पहुँच पाए हैं और न ही कभी इसे प्राप्त कर पाए हैं।
  • सेकेंडरी अनोर्गैस्मिया का मतलब है कि आप अतीत में तो ऑर्गाज्म तक पहुँच पाए हैं. लेकिन अब नहीं पहुँच पाते।
  • स्थितिजन्य अनोर्गैस्मिया का मतलब है कि आप केवल कुछ गतिविधियों, जैसे हस्तमैथुन या विशिष्ट यौन कृत्यों से ही ऑर्गाज्म प्राप्त कर पाते हैं।
  • सामान्य अनोर्गैस्मिया का मतलब है कि है ही आप यौन उत्तेजना और स्खलन के करीब पहुँचने पर भी ऑर्गाज्म प्राप्त नहीं कर पाते।

लिंग कैंसर

लिंग का कैंसर होना काफी दुर्लभ है, लेकिन यह हो सकता है।

यदि इसका समय पर उपचार न किया जाए, तो यह आपके शरीर के अन्य क्षेत्रों में भी फैल सकता है। इसलिए यदि आपको लिंग कैंसर के कोई लक्षण दिखाई देते हैं, तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

लिंग कैंसर के कुछ संभावित लक्षण निम्न हैं:

  • लिंग पर असामान्य गांठ, लालिमा या सूजन होना
  • असामान्य डिस्चार्ज
  • खुजली या जलन की अनुभूति
  • स्किन के रंग या मोटाई में परिवर्तन
  • मूत्र या वीर्य में रक्त आना
  • लिंग की स्किन का फटना या रक्त निकलना

लिंग का फ्रैक्चर

लिंग का फ्रैक्चर तब होता है जब आपके लिंग में कोई चोट लगती है और उत्तेजना के दौरान उसे खड़ा करने वाले ऊतकों में नुकसान पहुँचता है।

लिंग फ्रैक्चर के निम्न लक्षण हो सकते हैं:

  • लिंग में कुछ टूटने की आवाज आना
  • तुरंत अपना इरेक्शन खो देना और दोबारा लिंग का खड़ा न होना
  • लिंग में अत्यधिक दर्द होना
  • लिंग की स्किन का रंग बदलना या चोट का निशान बनना
  • लिंग असामान्य रूप से टेड़ा होना
  • लिंग से खून बहना
  • पेशाब करने में समस्या आना

किसी भी दीर्घकालिक जटिलताओं या स्थायी क्षति से बचने के लिए लिंग फ्रैक्चर का तुरंत इलाज करवाना आवश्यक है।

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस (Lymphangiosclerosis)

लिम्फैंगियोस्क्लेरोसिस तब होता है जब आपके लिंग में एक लिम्फ वेसल (या लसीका वाहिका) सख्त हो जाती है, जिससे आपकी स्किन के नीचे एक उभार बन जाता है। इससे ऐसा लगता है कि आपके लिंग के सिर के आधार के चारों ओर या आपके शाफ्ट में कोई मोटी रस्सी फंसी हो।

इस समस्या के अन्य लक्षण निम्न हैं:

  • आपके जननांग क्षेत्र, गुदा, या ऊपरी जांघों पर लालिमा या जलन होना
  • पेशाब या सम्भोग करते समय दर्द होना
  • पीठ या पेट के निचले हिस्से में दर्द होना
  • अंडकोषों में सूजन आना
  • लिंग में से गाड़ा पदार्थ निकलना
  • थकान महसूस होना
  • बुखार आना

फाइमोसिस और पैराफाइमोसिस

फाइमोसिस तब होता है जब आप अपने लिंग के सिर से फोरस्किन को पीछे नहीं खींच पाते। यह एक हानिरहित स्थिति होती है जिसमें उपचार की आवश्यकता नहीं होती, जब तक कि यह लिंग के सामान्य सामान्य कामकाज, जैसे कि इरेक्शन, उत्तेजना या पेशाब में हस्तक्षेप करना शुरू न कर दे।

पैराफाइमोसिस इसके उलट समस्या होती है, यानि आप अपनी फोरस्किन को लिंग के सिरे पर चढ़ा नहीं पाते। इस समस्या में आपकी फोरस्किन सूज सकती है, जिससे रक्त प्रवाह बाधित हो सकता है। इसलिए यह एक मेडिकल इमरजेंसी हो सकती है।

लिंग की स्किन के रोग

कई स्किन रोग भी लिंग को प्रभावित कर सकते हैं। कुछ रोग आपके शरीर की किसी भी स्किन को प्रभावित कर सकते हैं, जबकि अन्य में केवल लिंग शामिल होता है।

सोरायसिस (Psoriasis)

गुप्तांगों का सोरायसिस तब होता है जब आपका इम्यून सिस्टम स्वस्थ स्किन पर अटैक करके उसे मोटा पपड़ीदार बना देता है। यह आपके लिंग, नितंबों और जांघों की स्किन को प्रभावित कर सकता है।

सोरायसिस में स्किन सूखी पपड़ी के हिस्सों में फट जाती है। अधिक गंभीर मामलों में, स्किन में दरार और खून आ सकता है, जिसमें आपको कुछ अन्य इन्फेक्शन खासतौर से सेक्सुअली ट्रन्समिटेड इन्फेक्शन होने का खतरा काफी बढ़ जाता है।

सोरायसिस का इलाज करना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि इसमें आपका इम्यून सिस्टम शामिल होता है। इसलिए बेहतर उपचार के लिए आपको निरंतर डॉक्टर के संपर्क में रहना पड़ता है।

लाइकेन प्लानस (Lichen planus)

लाइकेन प्लानस भी एक इम्यून सिस्टम के कारण बनने वाली समस्या है, जिसमें स्किन पर लाल चकत्ते बनने लगते हैं।

लाइकेन प्लेनस के अन्य लक्षणों में शामिल हैं:

  • लिंग पर फीके बैंगनी धक्के पड़ना जो आपके जननांग क्षेत्र से परे फैल गए हों
  • खुजली
  • मुंह में छाले जैसे सफेद घाव होना जिनमें जलन और दर्द होना
  • मवाद से भरे फोड़े होना
  • फोड़ों के चारों ओर रेखाएं होना

पर्ली पेनाईल पैप्युल्स (Pearly penile papules)

पर्ली पेनाईल पैप्युल्स, लिंग के सिरे के आसपास विकसित होने वाले छोटे धक्के होते हैं। यह आमतौर पर उन पुरुषों के लिंग में होते हैं जिनका खतना नहीं हुआ है और यह समय के साथ अपने आप ठीक हो जाते हैं।

पर्ली पेनाईल पैप्युल्स आमतौर पर:

  • स्पर्श करने पर नरम होते हैं
  • व्यास में लगभग 1 से 4 मिलीमीटर के होते हैं
  • आपके लिंग के सिर के आधार के आसपास एक या दो भागों में होते हैं
  • मुंहासों की तरह दिखते हैं लेकिन इनमें मवाद नहीं होता

लाइकेन स्क्लेरोसस (Lichen sclerosus)

लाइकेन स्क्लेरोसस तब होता है जब आपके जननांगों या गुदा के आसपास की स्किन चमकदार, सफेद, पतले पैच या स्किन के धब्बे में बदल जाती है।

आपके लिंग पर लाइकेन स्केलेरोसिस होने के अन्य लक्षण निम्न हैं:

  • हल्की से गंभीर खुजली होना
  • जननांगों में दर्द या बेचैनी होना
  • सम्भोग के दौरान दर्द होना
  • स्किन पतली होना जो आसानी से चोटिल या घायल हो जाती है

संपर्क चर्मरोग (Contact dermatitis)

संपर्क चर्मरोग स्किन पर होने वाला एक प्रकार का प्रकोप है जो किसी एलर्जेन, जलन या सूरज के संपर्क में आने के परिणामस्वरूप होता है। यह आमतौर पर केवल तभी प्रकट होता है जब आप किसी उत्तेजक के संपर्क में आते हैं और इसके बाद अपनेआप ठीक हो जाता है।

इसके अन्य लक्षण निम्न हैं:

  • स्किन सूखी, परतदार, या उबड़-खाबड़ होना
  • फफोले होना जो फूटकर रिसने लगते हैं
  • लाल या जलनदार स्किन
  • स्किन सख्त और फीकी पड़ना
  • एकदम से और काफी तेज खुजली होना
  • लिंग या अंडकोषों में सूजन

फोर्डिस स्पॉट (Fordyce spots)

फोर्डिस स्पॉट छोटे धक्के होते हैं जो आपके लिंग और अंडकोश पर दिखाई दे सकते हैं। यह आयल ग्लैंड्स (तेल ग्रंथियों) के बढ़ने के कारण होते हैं और आमतौर पर हानिरहित होते हैं।

यह

  • 1 से 3 मिमी व्यास के होते हैं
  • पीले-सफेद, लाल, या मांस के रंग के हो सकते हैं
  • दर्दरहित होते हैं

स्किन कैंसर (Skin cancer)

हालाँकि स्किन कैंसर उन क्षेत्रों में अधिक आम होता है जो बहुत अधिक सूरज के संपर्क में रहते हैं, लेकिन यह आपके लिंग सहित स्किन के उन क्षेत्रों को भी प्रभावित कर सकता है जो ढके होते हैं।

यदि आप अपने लिंग पर कोई नए धब्बे या स्किन की बढ़ोतरी देखते हैं, तो जाँच करें कि क्या यह

  • लम्बे समय से हैं और ठीक नहीं हो रहे हैं
  • इनमें किनारे हैं
  • सफ़ेद, काले या लाल रंग के हैं
  • 6 मिमी से बढ़े हैं
  • समय के साथ आकार, आकृति और रंग बदलते हैं

यौन संचारित रोग (STIs)

अधिकांश लोगों को जब अपने लिंग से जुड़े कोई असामान्य लक्षण दिखाई देते हैं, तो उनका दिमाग सीधे यौन संचारित रोगों की ओर ही जाता है।

यदि आपको एक यौन संचारित रोग हो जाता है, तो इसे अपनी पार्टनर (या पत्नी) तक फैलाने से बचने के लिए आपको तुरंत उपचार प्राप्त करना आवश्यक है।

साथ ही आपको तब तक किसी भी यौन गतिविधि से दूर रहने की कोशिश करनी चाहिए जब तक कि यह रोग पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता।

क्लैमाइडिया (Chlamydia)

क्लैमाइडिया एक बैक्टीरियल इंफेक्शन होता है जो असुरक्षित सम्भोग (आमतौर पर गुदा सम्भोग) से फैलता है।

यह रोग हमेशा पहली बार में लक्षण पैदा नहीं करता, लेकिन समय के साथ आपको निम्न लक्षण दिखाई दे सकते हैं:

  • पेशाब करते समय जलन महसूस होना
  • लिंग से पीला या हरा पदार्थ निकलना
  • अंडकोषों या पेट में दर्द होना
  • वीर्य स्खलन के दौरान दर्द होना
  • बुखार

जननांग दाद (Genital herpes)

जननांग दाद एक वायरल इन्फेक्शन है जो हरपीज सिंप्लेक्स (HSV-1 या HSV-2) वायरस के कारण होती है।

आपको असुरक्षित जननांग, गुदा या मुख मैथुन से यह संक्रमण हो सकता है।

जननांग दाद के अन्य लक्षण निम्न हैं:

  • फफोलेदार दाद
  • दाद बनने से पहले स्किन में खुजली या झुनझुनी होना
  • ऐसे फफोले होना जो सूखने से पहले फूटकर रिसते हैं
  • कान और गर्दन के बीच मौजूद लिम्फ नोड में सूजन होना
  • सिर या शरीर में दर्द होना
  • बुखार

जननांग मस्सा और ह्युमैन पैपिलोमावायरस (Genital warts and HPV)

जननांग मस्से ह्युमैन पेपिलोमावायरस (एचपीवी) के कारण होने वाले छोटे, नरम धक्के होते हैं। यह महिला और पुरुष में होने वाला सबसे आम यौन संचारित रोग है।

आमतौर पर असुरक्षित जननांग, मौखिक या गुदा सेक्स करने के कुछ हफ़्तों बाद जननांग मस्से दिखाई देते हैं।

आमतौर पर यह मस्से:

  • छोटे
  • मांस के रंग के
  • फूलगोभी के आकार के
  • स्पर्श करने पर नरम
  • गुच्छों में

होते हैं।

गोनोरिया (Gonorrhea)

गोनोरिया एक बैक्टीरियल इन्फेक्शन है जो निसेरिया गोनोरिया नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। यह भी असुरक्षित जननांग, मौखिक या गुदा सेक्स से फैलता है।

क्लैमाइडिया के समान ही गोनोरिया में भी हमेशा लक्षण दिखाई नहीं देते।

लेकिन यदि लक्षण होते हैं, तो वह निम्न हो सकते हैं:

  • पेशाब करते समय दर्द या जलन का अनुभव होना
  • बार-बार पेशाब लगना
  • लिंग के सिरे पर लालिमा या सूजन दिखना
  • अंडकोषों में दर्द या सूजन होना
  • गले में खराश होना

सिफलिस (Syphilis)

सिफलिस एक बैक्टीरियल इन्फेक्शन है जो ट्रेपोनिमा पैलिडम नामक बैक्टीरिया के कारण होता है।

यह भी हमेशा पहले लक्षण पैदा नहीं करता है, लेकिन अगर इसका इलाज नहीं किया जाता है, तो यह जानलेवा हो सकता है।

सिफलिस के चार चरण होते हैं, जिनमें से प्रत्येक के अपने लक्षण होते हैं:

  1. प्राथमिक सिफलिस, जो एक छोटे, दर्द रहित घाव द्वारा चिह्नित होता है
  2. द्वितीय सिफलिस, जो स्किन पर चकत्ते, गले में खराश, सिरदर्द, बुखार और जोड़ों के दर्द से चिह्नित है
  3. गुप्त सिफलिस, जिसके कोई लक्षण नहीं होते
  4. तृतीयक सिफलिस, जो आँखों की रोशनी, सुनने की क्षमता और याददाश्त में कमी लाने के साथ-साथ दिमाग और रीढ़ की हड्डी में सूजन पैदा करता है

ट्रयकोमोइसीस (Trichomoniasis)

ट्रयकोमोइसीस एक आम इन्फेक्शन है जो ट्राइकोमोनास वेजिनेलिस नामक परजीवी के कारण होता है। यह भी असुरक्षित सेक्स करने से फैलता है।

ट्रयकोमोइसीस वाले लगभग 30 प्रतिशत लोगों में ही इसके लक्षण दिखाई देते हैं, जिनमें निम्न शामिल हो सकते हैं:

  • मूत्रमार्ग से असामान्य डिस्चार्ज
  • पेशाब या वीर्य स्खलन करते समय जलन होना
  • बार-बार पेशाब लगना

डॉक्टर से कब मिलें

सभी लिंग रोगों में चिकित्सा उपचार की आवश्यकता नहीं होती, और कुछ अपने आप ठीक हो सकते हैं।

लेकिन अगर आपको निम्न में से कोई भी लक्षण दिखाई दें, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करना ठीक रहेगा:

  • असामान्य रूप से रंगीन वीर्य
  • लिंग से असामान्य डिस्चार्ज
  • पेशाब या वीर्य में रक्त आना
  • लिंग और आसपास के क्षेत्रों में असामान्य चकत्ते, कट, या धक्के बनना
  • पेशाब करते समय जलन या चुभन होना
  • लिंग का असामान्य रूप से मुड़ना या टेड़ा होना जिससे उसके खड़े होने पर या स्खलन करते समय दर्द होना
  • लिंग में चोट लगने के बाद अक्सर तीव्र और लम्बे समय तक दर्द होना
  • एकदम से सेक्स की इच्छा खत्म होना
  • थकान और बुखार आना

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.