क्या हस्तमैथुन से लिंग बढ़ता है?

पेनिस का आकार कुछ लोगों में चिंता का कारण बन सकता है। छोटा लिंग होने से व्यक्ति का आत्मविश्वास प्रभावित हो सकता है और चिंता की भावना पैदा हो सकती है। हस्तमैथुन के बारे में कई भ्रांतियों में से एक है कि “हस्तमैथुन लिंग को बड़ा या छोटा कर सकता है।”

हालाँकि यह भ्रांतियाँ उन लोगों की चिंता को और ज्यादा बड़ा सकती हैं जो पहले से ही अपने लिंग की साइज को लेकर चिंतित हैं। कुछ अन्य भ्रांतियाँ यह बताती हैं कि हस्तमैथुन आपके स्वास्थ्य पर कर कई तरीकों से बुरा असर डाल सकता है।

हस्तमैथुन और लिंग के आकर के बीच के संबंध को गहराई से जानने के लिए आगे पढ़ते रहें। यहाँ पर हम हस्तमैथुन से सम्बंधित विभिन्न भ्रांतियों की सच्चाई और लिंग के आकर को प्रभावित करने वाले कारकों के बारे में जानेंगे।

क्या हस्तमैथुन लिंग को बड़ा या छोटा कर सकता है?

इस बात का कोई वैज्ञानिक सबूत नहीं है कि हस्तमैथुन का लिंग के आकार पर कोई स्थायी प्रभाव पड़ता है। हस्तमैथुन से लिंग खड़ा होता है जिससे उसकी साइज बढ़ती है, लेकिन यह अस्थाई होती है। स्खलित होने के बाद लिंग दोबारा अपनी नार्मल साइज में आ जायेगा।

लिंग का आकार आमतौर पर आपके जेनेटिक्स द्वारा निर्धारित होता है। लिंग का साइज यौवनावस्था में बढ़ता है और कुछ लोगों में इसके बाद भी 2-3 सालों तक बढ़ता है। अधिकांश मामलों में लिंग का साइज 18-19 साल की उम्र तक बढ़ना बंद हो जाता है।

यौन क्रिया और विकास के लिए टेस्टोस्टेरोन एक आवश्यक हार्मोन होता है। यौवनावस्था के दौरान, टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ जाता है और लिंग के विकास में मदद कर सकता है।

हस्तमैथुन के दौरान भी टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ जाता है। लेकिन स्खलन के तुरंत बाद यह अपने सामान्य स्तर पर आ जाता है, और लिंग की साइज पर इसका कोई दीर्घकालिक प्रभाव नहीं पड़ता।

हालाँकि लिंग वृद्धि और हस्तमैथुन, दोनों के बीच टेस्टोस्टेरोन का संबंध होता है, इसलिए यह समझा जा सकता है कि क्यों लोगों में यह भ्रांति होती है कि हस्तमैथुन से लिंग बड़ा या छोटा हो सकता है।

लेकिन, यह सिर्फ एक भ्रांति है और हस्तमैथुन का लिंग की साइज पर कोई दीर्घकालिक प्रभाव नहीं पड़ता।

लिंग की साइज को प्रभावित करने वाले कारक

कई कंपनियां लिंग का आकार बढ़ाने के लिए लोशन, क्रीम, तेल आदि उत्पाद बेचती हैं। लेकिन इन उत्पादों की प्रभावशीलता के काफी कम सबूत मौजूद हैं।

2019 में हुए एक शोध में 1,000 से अधिक पुरुषों द्वारा लिंग का आकार बढ़ाने के लिए 21 विभिन्न तरीकों की प्रभावशीलता का आंकलन किया। इस शोध में सर्जिकल और गैर-सर्जिकल दोनों विकल्पों को शामिल किया गया था। शोधकर्ताओं ने पाया कि इन तरीकों के काम करने के काफी कम सबूत मौजूद हैं।

लिंग की सर्जरी इसकी लम्बाई और चौड़ाई को बड़ा सकती है। इसमें आमतौर पर शरीर के विभिन्न हिस्सों से फैट या अन्य ऊतक लेकर उन्हें लिंग पर लगाया जाता है। इन सर्जरी के परिणाम हर व्यक्ति पर काफी भिन्न-भिन्न होते हैं और इनके कारण कई सेक्स समस्याएं इरेक्टाइल डिसफंक्शन होने का खतरा होता है।

हालाँकि लिंग की साइज बढ़ाना काफी मुश्किल होता है, लेकिन कुछ आसान तरीकों को इस्तेमाल करके इसे बड़ा दिखाया जा सकता है, जैसे:

  • वजन कम करना
  • लिंग के आसपास के बालों को शेव करना
  • अच्छी शारीरिक फिटनेस बनाए रखना

कुछ कारक लिंग के आकार को सिकोड़ भी सकते हैं, जैसे ठंड का मौसम। हालाँकि यह प्रभाव भी आमतौर पर अस्थाई होते हैं।

कुछ लोगों में, लिंग खड़ा करने की क्षमता को बढ़ाकर लिंग बड़े होने अनुभूति हो सकती है। उदाहरण के लिए, पेनिस पंप लिंग में रक्त को खींचते हैं जिससे वह फूल जाता है। इसी तरह वियाग्रा भी काम करता है। हालाँकि कोई भी दवाई लेने से पहले डॉक्टर या हेल्थकेयर प्रोफेशनल से सलाह जरूर लें।

हस्तमैथुन के बारे में कुछ और अन्य सामान्य भ्रांतियाँ

ज्यादातर भ्रांतियों में हस्तमैथुन को टेस्टोस्टेरोन स्तर से जोड़कर देखा जाता है।

उदाहरण के लिए, एक भ्रांति यह बताती है कि हस्तमैथुन यौवन के दौरान आपके शरीर के अन्य भागों के विकास को प्रभावित करता है। हालांकि, क्योंकि टेस्टोस्टेरोन पूरे शरीर की वृद्धि में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, और हस्तमैथुन अस्थायी रूप से टेस्टोस्टेरोन के स्तर को प्रभावित करता है, इसलिए इस भ्रांति का यह कारण हो सकता है।

ऐसी ही एक भ्रांति है कि हस्तमैथुन से मुँहासे होते हैं। मुंहासे होने का सही कारण अभी तक पता नहीं चला है, लेकिन यौवनावस्था के दौरान हॉर्मोनल बदलावों का इनसे संबंध हो सकता है।

अन्य भ्रांतियाँ हस्तमैथुन को शुक्राणुओं की कमी या बाँझपन और नामर्दी से जोड़कर देखती हैं।

लेकिन इन दावों का समर्थन करने वाले विश्वसनीय सबूतों की कमी है। बांझपन का एक कारण शुक्राणुओं में विकार हो सकता है जिसके निम्न कारण हो सकते हैं:

  • जेनेटिक्स
  • किडनी फेलियर
  • स्मोकिंग
  • अत्यधिक शराब का सेवन
  • कुछ दवाओं का सेवन जैसे एंटी-डेप्रेस्सेंट

निष्कर्ष

हस्तमैथुन करने से लिंग के आकार पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता। लिंग का आकार मुख्य रूप से जेनेटिक्स के जरिये निर्धारित होता है।

हालाँकि, यौवनावस्था के दौरान लिंग के विकास पर टेस्टोस्टेरोन का प्रभाव होता है, और क्योंकि हस्तमैथुन के कारण टेस्टोस्टेरोन के स्तर में अस्थाई बदलाव आते है, इसलिए कुछ लोगों को यह लग सकता है कि यौवनावस्था में हस्तमैथुन करने से लिंग छोटा होता है, लेकिन यह गलत धारणा है।

हालाँकि, बाजार में कई प्रोडक्ट्स उपलब्ध हैं जो लिंग को बड़ा करने की क्षमता रखने का दावा करते हैं, लेकिन इनके कारगर होने के पुख्ता सबूत नहीं हैं।

ऐसे ही, हस्तमैथुन से सम्बंधित लोगों में कई और भ्रांतियाँ भी हैं, जैसे इससे मुँहासे होते हैं या पुरुषों में इनफर्टिलिटी हो जाती है। हालाँकि, इन दावों के प्रमाणित करने के कोई वैज्ञानिक सबूत मौजूद नहीं हैं। शोधों से यह बात सामने आई है कि हस्तमैथुन से स्वास्थ्य पर कोई गंभीर खतरा नहीं होता।

लिंग छोटा होने से चिंता और अन्य मानसिक समस्याएं हो सकती हैं। जो लोग अपने लिंग के आकार को लेकर चिंतित हैं उन्हें तुरंत एक अच्छे सेक्स स्पेशलिस्ट से संपर्क करना चाहिए।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.