गोनोरिया के लक्षण, इलाज, जाँच, रोकथाम आदि

गोनोरिया (Gonorrhea) एक यौन संचारित संक्रमण (STI) होता है। यह निसेरिया गोनोरिया (Neisseria gonorrhoeae) नामक बैक्टीरिया के कारण होता है।

यह शरीर के गर्म और नम क्षेत्रों को निशाना बनाता है, जैसे:

  • मूत्रमार्ग (मूत्राशय से मूत्र निकालने वाली नली)
  • ऑंखें
  • गला
  • योनि
  • गुदा
  • महिला प्रजनन पथ (फैलोपियन ट्यूब, गर्भाशय ग्रीवा और गर्भाशय)

गोनोरिया एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में बिना कंडोम के मौखिक, गुदा या योनि सेक्स के माध्यम से फैलता है।

इससे बचने का सबसे अच्छा तरीका होता है सेक्स के दौरान के कंडोम पहनना और अनजान व्यक्ति के साथ सेक्स न करना।

लक्षण

आमतौर पर बैक्टीरिया फैलने के 2 से 14 दिन के भीतर इसके लक्षण दिखाई देने लगते हैं। हालाँकि, कुछ लोगों को गोनोरिया के कोई लक्षण नहीं होते।

आपको यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि ऐसे व्यक्ति जिनमें गोनोरिया के कोई लक्षण नहीं हैं, वह इस बैक्टीरिया के वाहक का काम कर सकते हैं और अन्य लोगों में संक्रमण फैला सकते हैं।

आमतौर पर गोनोरिया की एक व्यक्ति से दूसरे में फैलने की सम्भावना ज्यादा होती है जब उसमें इसके कोई लक्षण नहीं होते।

पुरुषों में गोनोरिया के लक्षण

पुरुषों में कई हफ्तों तक इसके कोई ध्यान देने योग्य लक्षण विकसित नहीं होते। और कुछ में तो कभी भी नहीं होते।

आमतौर पर, संचरण के एक हफ्ते बाद शुरआती लक्षण दिखना शुरू हो जाते हैं। अक्सर पहला ध्यान देने योग्य लक्षण पेशाब के दौरान जलन या दर्द होता है।

जैसे-जैसे यह आगे बढ़ता है, वैसे-वैसे आपमें निम्न लक्षण विकसित हो सकते हैं:

  • बार-बार पेशाब लगना और इसे रोकने में मुश्किल होना
  • लिंग से मवाद जैसा सफेद, पीला या हरा स्राव निकलना
  • लिंग के मुख में सूजन और लालिमा होना
  • अंडकोषों में सूजन और दर्द होना
  • गले में लगातार खराश बनी रहना

इसके अलावा, दर्द आपके मलाशय में भी फैल सकता है।

कुछ दुर्लभ मामलों में, गोनोरिया शरीर के अंगों, विशेष रूप से मूत्रमार्ग और अंडकोष को नुकसान पहुंचा सकता है।

उपचार के बाद यह लक्षण कुछ हफ्तों तक शरीर में बने रहेंगे।

महिलाओं में गोनोरिया के लक्षण

ज्यादातर महिलाओं में गोनोरिया के कोई स्पष्ट लक्षण विकसित नहीं होते हैं। यदि लक्षण विकसित होते भी हैं, तो वे काफी हल्के होते हैं या अन्य संक्रमणों के समान होते हैं, जिससे उन्हें पहचानना काफी कठिन हो जाता है।

गोनोरिया के लक्षण सामान्य योनि यीस्ट संक्रमण या बैक्टीरिया संक्रमण की तरह दिखाई दे सकते हैं।

इनमें मुख्य लक्षण निम्न हैं:

  • योनि से रिसाव निकलना (पानीदार, मलाईदार, या थोड़ा हरा)
  • पेशाब करते समय दर्द या जलन महसूस होना
  • बार-बार पेशाब लगना
  • पीरियड्स काफी तेज और अधिक समय तक होना
  • गले में खराश
  • सेक्स के दौरान दर्द
  • पेट के निचले हिस्से में तेज दर्द होना
  • बुखार

गोनोरिया की जाँच

डॉक्टर कई तरीकों से गोनोरिया की जाँच कर सकते हैं। वह प्रभावित क्षेत्र (लिंग, योनि, मलाशय, या गले) से द्रव का एक नमूना लेकर माइक्रोस्कोप में जाँच कर सकते हैं।

यदि डॉक्टर को आपमें जॉइंट संक्रमण या रक्त संक्रमण का संदेह होता है, तो वह इंजेक्शन के माध्यम से रक्त या जॉइंट के तरल पदार्थ का नमूना ले सकता है।

वह नमूने में एक पदार्थ मिलाकर माइक्रोस्कोप में जाँच करेगा। यदि नमूना उस पदार्थ के साथ रियेक्ट करता है, तो आपमें गोनोरिया हो सकता है। यह विधि अपेक्षाकृत तेज और आसान होती है, लेकिन यह पूर्ण निश्चितता प्रदान नहीं करती।

गोनोरिया का पता लगाने का दूसरा तरीका है – नमूने को कुछ दिनों के लिए एक अनुकूल वातावरण में रखना। यदि नमूने में गोनोरिया का बैक्टीरिया होगा तो वह कुछ दिनों में एक कॉलोनी बना लेगा।

इस तरीके में प्रारंभिक परिणाम 24 घंटे के भीतर तैयार हो सकता है। लेकिन पूर्ण निश्चित परिणाम तैयार होने में 3 दिन का समय लगता है।

गोनोरिया की जटिलताएँ

महिलाओं में गोनोरिया का उपचार न कराने पर दीर्घकालिक जटिलताएं होने का जोखिम ज्यादा होता है। अनुपचारित बैक्टीरिया प्रजनन पथ में प्रवेश कर सकता है और गर्भाशय, फैलोपियन ट्यूब और अंडाशय को अपनी चपेट में ले सकता है।

इस स्थिति को पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी) के रूप में जाना जाता है। इसके कारण आपको गंभीर दर्द हो सकता है और प्रजनन अंगों को नुकसान पहुँच सकता है।

अन्य यौन संचारित संक्रमणों के जरिये भी पीआईडी हो सकता है।

महिलाओं में फैलोपियन ट्यूब में अवरोध या स्कार टिश्यू भी विकसित हो सकते हैं, जो भविष्य में गर्भधारण को रोक सकते हैं या अस्थानिक गर्भावस्था का कारण बन सकते हैं। अस्थानिक गर्भावस्था तब होती है, जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय के बाहर प्रत्यारोपित होता है।

गोनोरिया प्रसव के दौरान माँ से नवजात शिशु को भी फ़ैल सकता है।

पुरुषों में गोनोरिया का उपचार न कराने पर मूत्रमार्ग में स्कार टिश्यू बन सकते हैं। गोनोरिया लिंग के अंदरूनी हिस्से में एक दर्दनाक फोड़ा भी पैदा कर सकता है। यह प्रजनन क्षमता को भी कम कर सकता है या पुरुष बाँझपन का कारण बन सकता है।

जब गोनोरिया रक्त में फैल जाता है, तो यह गठिया, हृदय क्षति, और मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी की परत की सूजन का कारण बन सकता है। हालाँकि यह स्थितियाँ काफी दुर्लभ हैं लेकिन काफी गंभीर होती हैं।

गोनोरिया का उपचार

आधुनिक एंटीबायोटिक दवाएं अधिकांश गोनोरिया संक्रमण को ठीक कर सकती हैं।

घरेलू उपचार

ऐसा कोई भी घरेलू उपचार या ओवर-द-काउंटर दवाएं (जिन्हें डॉक्टर के पर्चे की आवश्यकता नहीं होती) मौजूद नहीं हैं जो गोनोरिया का इलाज कर सकें।

इसलिए यदि आपको लगता है कि आपको या आपकी पार्टनर को गोनोरिया हो गया है, तो तुरंत डॉक्टर से जाँच करवाएं और उचित उपचार प्राप्त करें।

एंटीबायोटिक दवाएं

आमतौर पर गोनोरिया का इलाज सेफ्ट्रिएक्सोन (ceftriaxone) नामक एंटीबायोटिक इंजेक्शन को एक बार नितम्बों पर लगाकर और एज़िथ्रोमाइसिन (azithromycin) नामक खुराक को एक बार खाकर किया जाता है।

एंटीबायोटिक लेने के बाद, आपको कुछ ही दिनों में राहत महसूस होने लगेगी।

ऑस्ट्रेलिया में हुए एक शोध के अनुसार कुछ गोनोरिया बैक्टीरिया के प्रारूप, मौजूदा एंटीबायोटिक दवाओं के प्रति प्रतिरोध पैदा करने लगे हैं। यानि इनपर दवाओं का असर कम या न के बराबर होता है।

इस स्थिति में आपको अधिक व्यापक उपचार की आवश्यकता हो सकती है, जिसमें मौखिक एंटीबायोटिक का 7 दिवसीय कोर्स या दो अलग-अलग एंटीबायोटिक दवाओं के साथ दोहरा कोर्स लेना शामिल है।

आमतौर पर इन कोर्स में एंटीबायोटिक दवाओं को दिन में एक या दो बार लेना होता है। इस उपचार में उपयोग की जाने वाली कुछ सामान्य एंटीबायोटिक दवाओं में एज़िथ्रोमाइसिन (azithromycin) और डॉक्सीसाइक्लिन (doxycycline) शामिल हैं।

गोनोरिया संक्रमण को रोकने के लिए अभी कोई टीका मौजूद नहीं है, लेकिन वैज्ञानिक टीके विकसित कर रहे हैं।

गोनोरिया की रोकथाम

गोनोरिया या अन्य यौन संचारित संक्रमण को रोकने का सबसे सुरक्षित तरीका होता है – सेक्स के दौरान कंडोम जैसे अवरोध का उपयोग करना।

आपको अपने सेक्स पार्टनर के साथ खुलकर बात करना, नियमित परीक्षण करवाना और यह पता लगाना महत्वपूर्ण है कि क्या उनका परीक्षण हो गया है।

यदि आपके सेक्स पार्टनर में यौन संचारित रोग के कोई लक्षण दिखाई दे रहे हैं, तो उसके साथ किसी भी तरह के यौन संपर्क से बचें। उसे किसी भी संभावित जटिलता से बचाने के लिए तुरंत डॉक्टर से मिलने को कहें।

यदि आपको पहले कभी गोनोरिया या कोई अन्य यौन संचारित संक्रमण हो चुका है, तो आपमें दोबारा गोनोरिया होने का अधिक जोखिम होगा। यदि आपके कई सेक्सुअल पार्टनर हैं या आपने किसी नए पार्टनर के साथ सेक्स किया है, तब भी आपमें गोनोरिया होने का जोखिम अधिक होगा।

निष्कर्ष

अगर आपको लगता है कि आपको गोनोरिया हो गया है, तो सबसे पहले आपको किसी भी तरह की यौन गतिविधि से बचना चाहिए। साथ ही आपको तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

अपने डॉक्टर के पास जाकर निम्न गतिविधियों का पूरा विवरण दें:

  • लक्षण
  • यौन गतिविधि का इतिहास

यदि डॉक्टर आपको एंटीबायोटिक्स लिखता है, तो इनका नियम से सेवन करें। एंटीबायोटिक दवाओं के कोर्स को कम करने या बीच में ही छोड़ देने से बैक्टीरिया को उसके प्रति प्रतिरोध विकसित करने का मौका मिल जाता है।

आपको एक से दो हफ्ते के भीतर दोबारा अपने डॉक्टर से जाँच करवाना चाहिए, ताकि पता चल सके कि संक्रमण पूरी तरह से खत्म हो गया है या नहीं।

यदि परिणाम नकारात्मक आते हैं, तो आप अपनी यौन गतिविधि को फिर से शुरू कर सकते हैं।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.